ताज़ा खबर
 

‘भारत ने चेतावनी दी थी, फिर भी नहीं रुक सका ढाका हमला’

भारत ने ऐसे हमले के लिए उन्हें पहले ही चेतावनी दे दी थी, पर पूरी जानकारी ना होने की वजह से हमला नहीं रोका जा सका।

Author Updated: July 4, 2016 11:27 AM
हमले में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देती एक महिला। (AP Photo)

बांग्लादेश के लोगों समेत पूरी दुनिया को दहला देने वाले ढाका हमले के बाद कुछ नए तथ्य सामने आए हैं। अब बांग्लादेश की खुफिया एजेंसी की तरफ से कहा गया है कि भारत ने ऐसे हमले के लिए उन्हें पहले ही चेतावनी दे दी थी, पर पूरी जानकारी ना होने की वजह से हमला नहीं रोका जा सका। यह बात सिक्योरिटी सर्विस में लगे एक कर्मचारी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताई है। कर्मचारी ने कहा कि पिछले कुछ महीनों से भारत ने कुछ ऐसे तथ्य बांग्लादेश के सामने रखे थे जिससे पता लग रहा था कि आईएस वहां पर हमले की साजिश रच रहा है।कर्मचारी ने आगे के लिए चिंता जताते हुए बताया कि भारत और बांग्लादेश की सीमा के पास कुछ ऐसे सुनसान इलाके हैं जहां पर आंतक को पनाह मिल जाती है।

Read Also: Dhaka: नामी स्‍कूलों में पढ़े अमीर घरों से थे आतंकी, अटैक से पहले मुस्‍कुराकर खिंचवाईं PHOTOS

कर्मचारी के मुताबिक, मिली जानकारी इतनी पुख्ता तो नहीं थी कि शुक्रवार को हुए हमले को रोक पातीं, पर उनसे पता यह तो पता लग ही गया था कि कुछ बांग्लादेशी कट्टरपंथी भारत में छिपकर ट्रेनिंग कर रहे थे। कर्मचारी ने कहा, ‘भारत की तरफ से मिली चेतावनी कई टुकड़ों में बंटी हुई थी। इनसे पता लगा रहा था कि कुछ बड़ा प्लान किया जा रहा है। लेकिन पूरी जानकारी की जगह कुछ ही बातें हमें पता थी। इससे हमला नहीं रोका जा सकता था।’

Read Also: Dhaka Attack में भारतीय की भी मौत, 19 साल की तारिषी अमेरिकी यूनिवर्सिटी में कर रही थीं पढ़ाई

इससे पहले आईएस अपनी मैगजीन ‘दबिक’ में भी बांग्लादेश पर हमले की धमकी दे चुका था। 2014 से जमात उल-मुजाहिद्दीन जैसे संगठनों ने भी खुद को आईएस से जोड़ लिया था। इस वजह से बांग्लादेश में आतंक फैलाने वाले सभी लोग आईएस के आतंकी बन गए थे। इन आतंकियों ने पश्चिम बंगाल में भी बम धमाका किया था। भारत की जांच एजेंसी NIA की तरफ से भी 2014 में कुछ लोगों को पकड़ा गया था जो बम बनाना सीख रहे थे। 2015 के सितंबर में असम में जमात उल-मुजाहिद्दीन के कुछ लोग पकड़े गए थे। वे लोग वहां पर आतंकी ट्रेनिंग ले रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
जस्‍ट नाउ
X