India, UAE energy, climate change, agreement in aviation sector will be $ 53 billion - भारत, यूएई के बीच ऊर्जा, जलवायु परिवर्तन, उड्डयन क्षेत्र में समझौते, 53 अरब डॉलर का होगा व्यापार - Jansatta
ताज़ा खबर
 

भारत, यूएई के बीच ऊर्जा, जलवायु परिवर्तन, उड्डयन क्षेत्र में समझौते, 53 अरब डॉलर का होगा व्यापार

व्यापार को बढ़ावा देने के लिये दीर्घकालिक रणनीति तैयार करने के उद्देश्य से दोनों नेताओं ने विभिन्न शुल्क और गैर-शुल्कीय बाधाओं की जांच का निर्णय लिया और पहचान की गयी वस्तुओं में व्यापार बढ़ाने पर ध्यान देने पर जोर दिया।

Author February 11, 2018 10:43 PM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फोटो सोर्स- ट्विटर/@MEAIndia)

भारत और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) नागरिक उड्डयन, जलवायु और ऊर्जा क्षेत्र सहित विभिन्न क्षेत्रों में आर्थिक और वाणिज्यिक संबंधों को और मजबूत करने पर सहमत हुये हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत में बुनियादी ढांचे के विकास में खाड़ी देशों की निवेश रुचि का स्वागत किया है। मोदी और अबूधाबी के शहजादे मोहम्मद बिन जायद अल नाह्यान के बीच कल विस्तृत द्विपक्षीय वार्ता हुई।

मोदी की यूएई की दो दिवसीय यात्रा के समापन पर जारी संयुक्त बयान के मुताबिक, दोनों नेताओं ने एक दूसरे के प्रमुख व्यापारिक भागीदारों के रूप में दोनों देश के बीच उत्कृष्ट व्यापार और आर्थिक संबंधों पर गौर किया और द्विपक्षीय व्यापार के मौजूदा स्तर को लेकर संतोष व्यक्त किया। दोनों देश के बीच 2016-17 में द्विपक्षीय व्यापार करीब 53 अरब डॉलर का रहा।  इसमें कहा गया है कि दोनों देश अपने संबंधों को विशेषरूप से गैर-तेल वाले विविधीकृत व्यापार में और मजबूत करने पर सहमत हुये है।

व्यापार को बढ़ावा देने के लिये दीर्घकालिक रणनीति तैयार करने के उद्देश्य से दोनों नेताओं ने विभिन्न शुल्क और गैर-शुल्कीय बाधाओं की जांच का निर्णय लिया और पहचान की गयी वस्तुओं में व्यापार बढ़ाने पर ध्यान देने पर जोर दिया। साथ ही दोनों देशों के बाजारों में माल एवं सेवाओं की पहुंच बढ़ाने पर सहमत हुए। दोनों पक्षों ने इस दौरान अबु धाबी सिक्युरिटीज एक्सचेंज और बांबे स्टॉक एक्सचेंज के बीच समझौते को भी देखा। यह समझौता इसी यात्रा के दौरान

संपन्न हुआ। इस समझौते को दोनों देशों के बीच आर्थिक एवं व्यावसायिक संबंधों को बढ़ाने की कड़ी के तौर पर देखा जा रहा है। दोनों देश संयुक्तय राष्ट्र के जलवायु परिवर्तन संधि के दायरे में हरित ऊर्जा और जलवायु परिवर्तन के क्षेत्र में भी आपसी सहयोग बढ़ाने पर सहमत हुये हैं। वक्तव्य के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी ने भारत की ऊर्जा सुरक्षा के क्षेत्र में विश्वसनीय भागीदार बने रहने के लिये यूएई का धन्यवाद किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App