ताज़ा खबर
 

भारत ने पांच साल के इफ्तिखार अहमद को मां से मिलवाया तो पाकिस्तान ने कहा- शुक्रिया

सीमा पर तनाव के चलते मां और बेटे के मिलन में आठ माह लग गए।

पाकिस्तानी बच्चा इफ्तिखार अहमद। ( Photo Source: ANI)

पाकिस्तान ने झूठ बोल कर भारत लाए गए पांच साल के पाकिस्तानी बच्चे को वाघा सीमा पर उसकी मां को सौंपने के लिए भारत का शुक्रिया अदा किया। भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने ट्वीट किया, ‘इस मानवीय मामले में सहयोग के लिए हम भारतीय प्रशासन के शुक्रमंद हैं।’ पांच साल के इफ्तिखार अहमद को वाघा पर पाकिस्तान रेंजर्स को सौंपा गया जहां उसकी मां रोहिना कियानी कई घंटे से उसका इंतजार कर रही थी।

रोहिना ने वाघा ने पत्रकारों से कहा, ‘अपने लाल को वापस पा कर मैं बहुत खूश हूं। मेरे बच्चे के वापस लौटने में मदद के लिए मैं पाकिस्तान सरकार की एहसानमंद हूं। मैं अपने बच्चे की वापसी को ले कर उम्मीदें खो बैठी थी। यह मेरे लिए किसी करिश्मे से कम नहीं है।’

गौरतलब है कि पिछले साल मार्च में बच्चे का पिता उसे भारत ले गया था। उसका पिता जम्मू का है। रोहिना का आरोप है कि उसके पूर्व पति ने उससे झूठ बोला था कि वह उसे शादी में ले जा रहा है। वह उसे पहले दुबई ले गया और उसके बाद कश्मीर ले गया। सीमा पर तनाव के चलते मां और बेटे के मिलन में आठ माह लग गए।

बता दें, बीएसएफ ने सद्भावना के तहत एक पाकिस्तानी नागरिक को भी उसके देश को शनिवार को सौंपा था। यह नागरिक अनजाने में भारत की सीमा में प्रवेश कर गया था। सीमा सुरक्षा बल के एक अधिकारी ने बताया कि बीएसएफ ने भारत में सीमा पार करने के आरोप में पाकिस्तानी नागरिक के खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं किया।

बीएसएफ के उप महानिरीक्षक जे एस कटारिया ने बताया कि अमृतसर सेक्टर की बार्डर आउट पोस्ट रतन खुर्द के बल के कर्मियों ने एक पाकिस्तानी नागरिक को पकड़ा। उसकी पहचान फैसलाबाद के नग्गा चक के निवासी 35 वर्षीय नेमशाह के रूप में की गयी है। वह अनजाने में अंतरराष्ट्रीय सीमा पारकर भारतीय सीमा में प्रवेश कर गया था। कटारिया ने बताया कि चूंकि नेमशाह अनजाने में भारतीय सीमा में प्रवेश कर गया था, पाकिस्तानी रेंजर्स से संपर्क किया गया और पाकिस्तानी नागरिकों को उन्हें सौंप दिया गया।

वीडियो - पाकिस्तान ने रिहा किए 220 भारतीय मछुआरे

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App