ताज़ा खबर
 

डोभाल-जांजुआ ने फोन पर की बात, तनाव कम करने पर जताई सहमति: सरताज अजीज

जीयो न्यूज ने अजीज के हवाले से कहा, ‘पाकिस्तान नियंत्रण रेखा पर तनाव कम करना चाहता है और कश्मीर पर ध्यान केंद्रित करना चाहता है।’

Author इस्लामाबाद | October 3, 2016 8:49 PM
पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेश मामलों पर सलाहकार सरताज अजीज। (एपी फाइल फोटो)

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने सोमवार (3 अक्टूबर) को कहा कि भारत और पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों (एनएसए) ने फोन पर बात की है और नियंत्रण रेखा पर तनाव कम करने पर सहमति जताई है। उरी हमले और इसके बाद नियंत्रण रेखा पार स्थित आतंकी ठिकानों पर भारत की ओर से लक्षित हमला (सर्जिकल स्ट्राइक) किए जाने के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया था। हालिया तनाव के बीच दोनों एनएसए के बीच पहली बार बातचीत हुई है। अजीज ने कहा कि नियंत्रण रेखा पर दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ने के बाद भारत के एनएसए अजीत डोभाल और उनके पाकिस्तानी समकक्ष नासिर जांजुआ के बीच संपर्क हुआ।

सूत्रों के अनुसार इस बातचीत के दौरान दोनों एनएसए के बीच नियंत्रण रेखा पर तनाव कम करने को लेकर सहमति बनी। बीते 18 सितम्बर को हुए उरी आतंकी हमले के बाद एनएसए के स्तर पर पहली बार संपर्क हुआ। समाचार चैनल जियो न्यूज ने अजीज के हवाले से कहा, ‘पाकिस्तान नियंत्रण रेखा पर तनाव कम करना चाहता है और कश्मीर पर ध्यान केंद्रित करना चाहता है।’ उन्होंने आरोप लगाया कि भारत तनाव को बढ़ाकर कश्मीर मसले से दुनिया का ध्यान भटकाना चाहता है। पिछले हफ्ते भारतीय सेना ने नियंत्रण रेखा के पार पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में कई आतंकी ठिकानों पर लक्षित हमले किए जिससे भारत में घुसपैठ की ताक में बैठे आतंकियों को भारी नुकसान पहुंचा है।

ये हमले कश्मीर के उरी में एक सैन्य शिविर पर हुए आतंकी हमले के बाद किए गए थे। उरी में हुए आतंकी हमले में भारत के 19 जवान शहीद हो गए थे। हालांकि पाकिस्तान इसे लक्षित हमला मानने से इनकार कर रहा है और इस घटना को ‘सीमा पार’ से हुई गोलीबारी बता रहा है। नवाज शरीफ के हालिया अमेरिकी दौरे के बारे में अजीज ने कहा कि प्रधानमंत्री ने विश्वभर के नेताओं को बता दिया है कि जब तक कश्मीर विवाद का हल नहीं निकलता तब तक दोनों देशों के बीच सीमा पर तनाव बना रहेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App