ताज़ा खबर
 

विदेशी मनीआॅर्डर पाने में भारत ने बाजी मारी

दुनिया भर में काम करने वाले भारतीयों ने बीते साल 62.7 अरब डॉलर स्वदेश भेजे जो इसी अवधि में चीन समेत किसी अन्य देश को मिले विदेशी विमनी-आर्डर में सबसे ऊपर रहा।

Author न्यूयॉर्क | June 16, 2017 12:51 AM

दुनिया भर में काम करने वाले भारतीयों ने बीते साल 62.7 अरब डॉलर स्वदेश भेजे जो इसी अवधि में चीन समेत किसी अन्य देश को मिले विदेशी विमनी-आर्डर में सबसे ऊपर रहा। संयुक्त राष्ट्र की इकाई कृषि विकास के लिए अंतरराष्ट्रीय कोष आइएफएडी ने अपने एक अध्ययन में यह निष्कर्ष निकाला है। इसके अनुसार वैश्विक स्तर पर विभिन्न देशों के कुल लगभग 20 करोड़ प्रवासियों ने 2016 में अपने अपने घरों को कुल 445 अरब डॉलर धन प्रेषित किया। इससे दुनिया में लाखों लोगों को गरीबी रेखा से बाहर आने में मदद मिली।

रपट में कहा गया है कि बीते दशक में रेमिटेंस प्रवाह औसतन 4.2 फीसद वार्षिक की दर से बढ़ा है और यह 2007 में 296 अरब डॉलर से बढ़कर 2016 में 445 अरब डॉलर हो गया।
अपनी तरह के इस अध्ययन में 2007 से 2016 के दस साल में विस्थान व रेमिटेंस प्रवाह का विश्लेषण किया गया है। इसके अनुसार आलोच्य अवधि में विदेशों से प्रवासियों की ओर से भेजे गए कुल मनी आॅर्डर का 80 फीसद धन 23 देशों को मिला। इनमें भारत, चीन, फिलिपीन, मेक्सिको व पाकिस्तान प्रमुख हैं। वहीं जिन देशों से सबसे अधिक मनीआॅर्डर भेजे गए उनमें अमेरिका, सउदी अरब व रूस प्रमुख हैं।

अध्ययन के अनुसार 2016 में भारत विदेश से सबसे अधिक मनीआॅर्डर पाने वाला देश रहा। उसे 62.7 अरब डॉलर धन मिला। उसके बाद चीन का नंबर रहा जिसे कुल 61 अरब डॉलर की राशि मिली। इसके बाद फिलीपीन को 30 अरब डॉलर व पाकिस्तान को 20 अरब डॉलर धन मिला। इसके अनुसार 2007-2016 के दशक में भारत ने विदेशी मनी आॅर्डर पाने के मामले में चीन को पछाड़ दिया।

अध्ययन के अनुसार 2016 में भारत विदेश से सबसे अधिक मनीआॅर्डर  पाने वाला देश रहा। उसे 62.7 अरब डॉलर धन मिला। उसके बाद चीन का नंबर रहा जिसे कुल 61 अरब डॉलर की राशि मिली। इसके बाद फिलीपीन को 30 अरब डॉलर व पाकिस्तान को 20 अरब डॉलर धन मिला। इसके अनुसार 2007-2016 के दशक में भारत ने विदेशी मनीआॅर्डर पाने के मामले में चीन को पछाड़ दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App