ताज़ा खबर
 

भारत-चीन प्रतिस्पर्धा की बात पश्चिमी मीडिया का हौवा : चीनी मीडिया

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की चीन के शीर्ष नेतृत्व की बातचीत से पहले यहां की सरकारी मीडिया ने बुधवार को कहा कि पश्चिमी मीडिया ईरान के चाबहार बंदरगाह को लेकर एशिया के इन दो प्रमुख देशों के बीच प्रतिस्पर्धा का हौवा खड़ा कर रहा है।

Author बीजिंग | May 25, 2016 10:51 PM
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फ़ोटो- पीटीआई, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चीन दौरे की)

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की चीन के शीर्ष नेतृत्व की बातचीत से पहले यहां की सरकारी मीडिया ने बुधवार को कहा कि पश्चिमी मीडिया ईरान के चाबहार बंदरगाह को लेकर एशिया के इन दो प्रमुख देशों के बीच प्रतिस्पर्धा का हौवा खड़ा कर रहा है। सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ के अनुसार भारतीय राष्ट्रपति की चीन यात्रा से दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधोंं के विकास में नया अध्याय खुलने वाला है तथा क्षेत्रीय शांति एवं स्थिरता के लिए सार्थक नतीजे आएंगे।

मुखर्जी अपनी चार दिवसीय यात्रा के पहले पड़ाव के तौर पर गुआंगचउ पहुंचे जहां उन्होंने भारत-चीन व्यापार मंच को संबोधित किया। वह गुरुवार को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और कुछ अन्य शीर्ष नेताओं से मुलाकात करने वाले हैं। एजेंसी ने चाबहार बंदरगाह के मुद्दे का उल्लेख करते हुए कहा, ‘कुछ पश्चिमी मीडिया ने एशिया की इन दोनों शक्तियों के बीच प्रतिस्पर्धा का हौवा खड़ा करके चीन-भारत संबंधों में कड़वाहट पैदा करने का प्रयास किया है।’ उसके लेख में कहा गया है ‘उनके (पश्चिमी मीडिया) दुष्प्रचार का सबसे ताजा निशाना ईरान के चाबहार बंदरगाह को विकसित करने के लिए नई दिल्ली-तेहरान के बीच हुआ समझौता है।

यह बंदरगाह पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह से करीब 100 किलोमीटर की दूरी पर है। भारत और चीन के बीच प्रतिस्पर्धा का मीडिया का दावा अनावश्यक है।’ एजंसी ने कहा, ‘चीन और भारत के साझा हित और एक दूसरे पर निर्भरता काफी गहरी और निकट है तथा यह इतनी ठोस है कि गलत इरादे वाले पश्चिमी मीडिया के हमले से इस पर कोई असर नहीं होगा।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App