ताज़ा खबर
 

चीन की नजर में बढ़ता भारत एक चुनौती: अमेरिकी रिपोर्ट; रणनीतिक साझेदारी में बीजिंग बन रहा बाधा

अमेरिकी विदेश मंत्रालय की 70 पन्नों की रिपोर्ट में कहा गया कि चीन इस क्षेत्र में कई अन्य देशों की सुरक्षा, स्वायत्तता और आर्थिक हितों को कमजोर कर रहा है।

Edited By Sanjay dueby वाशिंगटन | Updated: November 19, 2020 3:33 PM
भारत-अमेरिका के बीच किया गया महत्‍वपूर्ण रक्षा समझौता।(सोर्स सोशल मी‍डिया)

अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने एक रिपोर्ट में कहा है कि भारत के बढ़ते प्रभाव के चलते चीन उसे एक “प्रतिद्वंद्वी” मानता है और अमेरिका, उसके सहयोगियों तथा अन्य लोकतांत्रिक देशों के साथ उसकी रणनीतिक साझेदारी को बाधित करना चाहता है, ताकि विश्व महाशक्ति के रूप में वह अमेरिका को विस्थापित कर सके।

अमेरिका में तीन नवम्बर को हुए राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडन की जीत के बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन से उन्हें सत्ता हस्तांतरण से पहले यह विस्तृत नीति दस्तावेज आया है। इसमें कहा गया है कि चीन क्षेत्र के कई देशों की सुरक्षा, स्वायत्तता और आर्थिक हितों को कमजोर कर रहा है।

रिपोर्ट में कहा गया है, “चीन भारत को एक प्रतिद्वंद्वी के तौर पर देखता है और अमेरिका, जापान, ऑस्ट्रेलिया के साथ नई दिल्ली की रणनीतिक साझेदारी और अन्य लोकतंत्रों के साथ उसके संबंधों को बाधित करते हुए, उसे आर्थिक रूप से फंसा कर बीजिंग की महत्वाकांक्षाओं को समायोजित करने के लिए उसे बाध्य करने का प्रयास करता है।”

उसने कहा, “चीन इस क्षेत्र में कई अन्य देशों की सुरक्षा, स्वायत्तता और आर्थिक हितों को कमजोर कर रहा है, जिनमें दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के संगठन (आसियान) के सदस्य देश, जिनमें महत्वपूर्ण मेकोंग क्षेत्र, साथ ही प्रशांत द्वीप समूह के राष्ट्र शामिल हैं।”

अमेरिकी विदेश मंत्रालय की 70 पन्नों की रिपोर्ट में कहा गया कि अमेरिका और दुनिया भर के देशों में जागरूकता बढ़ रही है, सत्तारूढ़ चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने महान शक्तियों की प्रतियोगिता के नए युग की शुरुआत कर दी है।

Next Stories
1 हमें देर से सत्ता मिली तो कोविड-19 टीकाकरण में भी विलंब होगा, बाइडेन बोले- राष्ट्रपति ट्रंप नहीं कर रहे सहयोग
2 चीन: वुहान में कोरोनावायरस महामारी की जानकारी उजागर करने वाली सिटीजन रिपोर्टर को पांच साल की जेल
3 ट्रंप प्रशासन का अफगानिस्तान और इराक में सैनिक कम करने का ऐलान, जो बाइडेन की पार्टी ने किया विरोध
ये पढ़ा क्या?
X