ताज़ा खबर
 

इस आदत की वजह से 2015 में 11 प्रतिशत लोगों ने गंवाई जान, आपके पास है बचने का मौका

विश्व में धूम्रपान करने वाली कुल आबादी का 11.2 फीसदी हिस्सा भारत में रहता है।

Author April 6, 2017 16:31 pm
सिगरेट पीता युवक।

विश्व में वर्ष 2015 में मरने वाले प्रत्येक 10 लोगों में से एक से अधिक की मौत धूम्रपान की वजह से हुई और इनमें से 50 फीसदी से अधिक मौत सिर्फ चार देशों में हुई है जिसमें भारत भी शामिल है। एक नये अध्ययन में यह जानकारी सामने आई है। चिकित्सकीय पत्रिका ‘द लैनसेट’ में प्रकाशित ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज :जीबीडी: के अध्ययन के अनुसार वर्ष 2015 में विश्व में हुई 64 लाख लोगों की मौत में 11 फीसदी से अधिक लोगों की मौत का कारण धमू्रपान था और इनमें से 52.2 फीसदी लोगों की मौत चीन, भारत, अमेरिका और रूस में हुई।

पुरुषो के धूम्रपान करने के मामले में चीन, भारत और इंडोनेशिया तीन अग्रणी देश हैं। वर्ष 2015 में विश्व में धूम्रपान करने वाले पुरूषों में से करीब 51.4 फीसदी लोग इन्हीं देशों के हैं। विश्व में धूम्रपान करने वाली कुल आबादी का 11.2 फीसदी हिस्सा भारत में रहता है। अध्ययन के अनुसार वर्ष 2005 की तुलना में वर्ष 2015 में धूम्रपान से होने वाली मौत में 4.7 फीसदी की वृद्धि हुई है। धूम्रपान का स्वास्थ्य पर बहुत बुरा असर पड़ता है और यह अक्षमता का दूसरा सबसे बड़ा कारण बन गया है। इससे पहले यह अक्षमता का तीसरा सबसे बड़ा कारण था। अध्ययन में बताया गया, वर्ष 2015 में विश्व में होने वाली मौत में से 11.5 फीसदी मौत का कारण धूम्रपान था जिसमें से 52.2 फीसदी लोगों की मौत चार देशों- चीन, भारत, अमेरिका और रूस में हुईं।

आपको बता दें कि यह अध्ययन 195 देशों में धूम्रपान करने की आदतों पर आधारित है। इसमें बताया गया, महिलाओं द्वारा धूम्रपान करने के मामले में तीन अग्रणी देश अमेरिका, चीन और भारत हैं। यहां विश्व में धूम्रपान करने वाली महिलाओं की 27.3 फीसदी आबादी रहती है। पिछले साल आई विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट में कहा गया था कि तंबाकू जनित बीमारियों से भारत में सालाना 1,04,500 करोड़ रुपए का नुकसान होता है। नई दिल्ली में डब्ल्यूएचओ के प्रतिनिधि हेंक बेकेडम ने अपने एक बयान में कहा था तंबाकू से जुड़ी बीमारियों के चलते अर्थव्यवस्था को 1,04,500 करोड़ रुपए का नुकसान होता है, जबकि करीब 10 लाख मौतें होती हैं।

देखिए वीडियो - 7 देशों में भारतीय दूतावास की वेबसाइट हैक; विदेश मंत्रालय ने कहा- ‘ठीक करने की कोशिश जारी’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App