ताज़ा खबर
 

इमरान खान को सता रहा भारत के एक और ‘हमले’ का डर! बोले- आक्रमण रोकने के लिए तैयार

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि भारत में आम चुनाव संपन्न होने तक भारत-पाकिस्तान संबंध तनावपूर्ण बने रहेंगे और उन्हें पूर्वी पड़ोसी से ‘‘एक और दुस्साहस’’ की आशंका है।

Author इस्लामाबाद | Updated: March 26, 2019 5:35 PM
imran khan and narendra modiप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान। (फाइल फोटो)

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि भारत में आम चुनाव संपन्न होने तक भारत-पाकिस्तान संबंध तनावपूर्ण बने रहेंगे और उन्हें पूर्वी पड़ोसी से ‘‘एक और दुस्साहस’’ की आशंका है। पुलवामा में पाकिस्तान आधारित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के 14 फरवरी के आतंकवादी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है। खान ने कहा कि युद्ध की छाया अब भी पाकिस्तान और भारत पर मंडरा रही है क्योंकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार आम चुनावों से पहले ‘‘एक और दुस्साहस’’ कर सकती है। ‘डॉन’ ने खान के हवाले से बताया, ‘‘खतरा अभी टला नहीं है। भारत में आगामी आम चुनावों तक स्थिति तनावपूर्ण बनी रहेगी। हम भारत की ओर से किसी भी तरह के आक्रमण रोकने के लिए पहले से ही तैयार हैं।’’ उन्होंने यह भी दावा किया कि उन्होंने अफगानिस्तान सरकार की ‘‘चिंताओं’’ के कारण तालिबान के साथ इस्लामाबाद में अपनी प्रस्तावित बैठक रद्द कर दी।

गौरतलब है कि बीते ही दिन  पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में स्थित प्राचीन हिंदू मंदिर एवं सांस्कृतिक स्थल शारदा पीठ की यात्रा के लिये एक गलियारे की स्थापना के प्रस्ताव पर सोमवार को पाकिस्तान सरकार ने मंजूरी दे दी। इससे अब भारत से हिंदू तीर्थयात्रियों को इस मंदिर में दर्शन का मौका मिल पायेगा।
मीडिया में आयी खबर के अनुसर शारदा पीठ गलियारा के खुल जाने से यह पाकिस्तान नियंत्रित क्षेत्र में करतारपुर गलियारे के बाद दूसरा धार्मिक मार्ग होगा जो दोनों पड़ोसी देशों को जोड़ने का काम करेगा। ‘एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ ने पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से बताया कि मंदिर गलियारा खोलने के बारे में भारत पहले ही पाकिस्तान को प्रस्ताव भेज चुका है।

सूत्रों ने बताया, ‘‘करतारपुर के बाद निकट भविष्य में यह हिंदुओं के लिये एक बड़ी खबर होने वाली है। कुछ सरकारी अधिकारी इलाके का दौरा करेंगे और बाद में प्रधानमंत्री को एक रिपोर्ट जमा करेंगे।’’ अशोक के साम्राज्य में 237 ईस्वी पूर्व स्थापित प्राचीन शारदा पीठ करीब 5,000 साल पुराना एक परित्यक्त मंदिर है। विद्या की अधिष्ठात्री हिंदू देवी को सर्मिपत यह मंदिर अध्ययन का एक प्राचीन केंद्र था। शारदा पीठ भारतीय उपमहाद्वीप में सर्वश्रेष्ठ मंदिर विश्वविद्यालयों में से एक हुआ करता था।


यह कश्मीरी पंडितों के लिये तीन प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक हैं। अन्य दो अनंतनाग में मार्तंड सूर्य मंदिर और अमरनाथ मंदिर हैं। कश्मीरी पंडित संगठन लंबे समय से शारदा पीठ गलियारे को खोलने की मांग कर रहे हैं। नेशनल असेंबली में पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के सदस्य रमेश कुमार ने कहा, ‘‘पाकिस्तान ने शारदा मंदिर को खोलने का फैसला किया है। परियोजना पर काम मौजूदा साल में शुरू हो जायेगा। इसके बाद पाकिस्तान में रहने वाले ंिहदू भी इस स्थल की यात्रा कर सकेंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं कुछ दिनों में इस इलाके का दौरा करूंगा और प्रधानमंत्री इमरान खान को रिपोर्ट सौपूंगा।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 राष्‍ट्रपति चुनाव पर डोनाल्‍ड ट्रंप को बड़ी राहत, अमेरिकी न्‍याय विभाग को नहीं मिले रूस से जुड़ाव के सबूत
2 हिंदू बहनों का अपहरण: विदेश मंत्री के ट्वीट पर पाकिस्तान में हलचल, जबरन धर्मांतरण को बताया आंतरिक मामला, सुषमा ने कहा- घबराहट दिख रही है
3 बालाकोट एयर स्‍ट्राइक के बाद सहमा पाकिस्‍तान, सीमा पर तैनात कर दी चीनी डिफेंस मिसाइल
कृषि कानून
X