ताज़ा खबर
 

एयरहोस्टेस की लिबास पर भड़की यात्री ने की शिकायत- कोई नहीं पहनता इतनी छोटी स्कर्ट

महिला यात्री ने आगे दावा किया कि एयरहोस्टेस की स्कर्ट इतनी छोटी होती है कि उन्हें इस दौरान अंतर्वस्त्र नजर आते हैं। महिला यात्री ने बाद में अपने पत्र को फेसबुक पर भी शेयर किया था।

न्यूजीलैंड मूल की एक महिला यात्री ने फ्लाइट में सफर के दौरान महिला स्टाफ की ड्रेस को लेकर आपत्ति जताई है। (फोटोः फेसबुक)

फ्लाइट में एक महिला यात्री एयरहोस्टेस की लिबास पर भड़क गई। सफर के बाद उसने संबंधित देश के राजनेता से इसकी शिकायत की। नाराजगी जाहिर करते हुए उसने अपने पत्र के जरिए कहा कि फ्लाइट में इतनी छोटी यूनीफॉर्म कोई नहीं पहनता है। यात्री ने आगे दावा किया कि एयरहोस्टेस की स्कर्ट बेहद छोटी होती है। महिला स्टाफ के इस दौरान अंतर्वस्त्र नजर आते हैं। महिला यात्री ने बाद में अपने पत्र को फेसबुक पर भी शेयर किया था। ‘मलेशियन डाइजेस्ट’ के अनुसार, यह शिकायती पत्र न्यूजीलैंड के वेलिंगटन में रहने वाली डॉ.जून रॉबर्टसन ने मलेशिया के सीनेटर हनीफी मामत को लिखा है। वह बीते दो दशक से साल में दो बार मलेशिया जाती हैं। उनके एफबी पोस्ट के अनुसार, “एयर एशिया की एयरहोस्टेस की छोटी स्कर्ट मुझे बेहद खराब लगी। मैं ड्रेस को कारण घृणित महसूस कर रही थी, क्योंकि हर कोई इसे ठीक नहीं बताएगा।”

यह है डॉ.रॉबर्टसन का शिकायती पत्र-

महिला यात्री ने आगे क्वालालंपुर एयरपोर्ट की एक घटना का जिक्र भी किया। लिखा, “यहां सुपर मार्केट में एयर एशिया की एक होस्टेस पर अचानक मेरी नजर पड़ी थी। वह जब झुक रही थी, तब उसके अंतर्वस्त्र साफ नजर आ रहे थे। यह वाकई में हैरान करने वाला पल था।” ऑकलैंड से बीते साल क्वालालंपुर आने के दौरान एक अन्य घटना के बारे में बताते हुए कहा कि तब उन्हें एक क्रू सदस्य को अपनी जैकेट बंद करने की हिदायत दी थी।

डॉ.रॉबर्टसन ने सफर के बाद इस बारे में मलेशिया के सीनेटर को शिकायती पत्र लिखा है। (फोटोः फेसबुक)

हालांकि, महिला यात्रियों को पुरुष स्टाफ के कपड़ों से किसी प्रकार की आपत्ति नहीं थी। वहीं, सीनेटर मामत ने बीते महीने ही आपत्तिजनक यूनीफॉर्म्स के मसले पर पिछले महीने कहा था कि मलेशियन एयरलाइंस में फ्लाइट अटेंडेंट्स को शरिया का पालन करने वाली ड्रेस पहननी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App