scorecardresearch

भारत में बढ़ रहा मानवाधिकार हनन, कुछ सरकारें, पुलिस और अधिकारी कर रहे अत्याचार, हम नजर बनाए हुए हैं, बोले यूएस विदेश मंत्री एन्टोनी ब्लिंकन

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की पार्टी की सांसद इल्हान उमर ने कुछ दिन पहले ही भारत में मुसलमानों पर हो रहे कथित अत्याचार को लेकर बयान दिया था।

antony blinkon| s jaishankar| america|
अमेरिकी विदेश मंत्री भारत के विदेश मंत्री से गुफ्तगू करते हुए (फोटो सोर्स: @DrSJaishankar)

सोमवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन से भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री सुब्रमण्यम जयशंकर ने मुलाकात की। इस दौरान अमेरिका के विदेश मंत्री एस जयशंकर भी मौजूद रहे। इस मुलाकात के बाद भारत के विदेश मंत्री और रक्षा मंत्री ने अमेरिका के विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में हिस्सा लिया। मानवाधिकारों के उल्लंघन को लेकर अमेरिकी विदेश मंत्री ने एक बयान दिया।

संवाददाता सम्मेलन के दौरान अमेरिकी विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन ने कहा कि, “हम मानवाधिकारों पर अपने भारतीय पार्टनरों के साथ नियमित रूप से जुड़ते हैं और इसके लिए हम भारत में हाल में हुए कुछ घटनाक्रमों की निगरानी कर रहे हैं। इन घटनाक्रमों में सरकार, पुलिस और जेल अधिकारियों द्वारा मानवाधिकारों के हनन में वृद्धि देखी गई है।” अमेरिकी विदेश मंत्री के बयान के बाद भारत के रक्षा मंत्री और विदेश मंत्री ने भी संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया, लेकिन उन्होंने इस विषय पर कोई टिप्पणी नहीं की।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन की पार्टी की सांसद इल्हान उमर ने कुछ दिन पहले ही भारतीय मुसलमानों पर हो रहे कथित अत्याचार को लेकर कहा था कि, “इससे पहले कि हम उन्हें शांति का साथी मानना बंद कर दें, मोदी को भारत की मुस्लिम आबादी के साथ क्या करने की ज़रूरत है?”

दोनों देशों के मंत्रियों ने हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए वैश्विक भलाई के लिए क्वाड को सशक्त बनाने के लिए अपने नेताओं द्वारा किए गए एलानों को आगे बढ़ाने के लिए अपनी प्रतिबद्धता दोहराई। साथ ही संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में क्षेत्र में शांति और समृद्धि प्रदान करने के लिए क्वाड के लिए सकारात्मक और रचनात्मक एजेंडा विकसित करने पर पिछले वर्ष की गई प्रगति का स्वागत किया गया।

वहीं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान के सवाल पर ANI को दिए गए इंटरव्यू के दौरान बताया कि, “यह स्पष्ट है कि जब भी द्विपक्षीय वार्ता होती है, आतंकवाद का मुद्दा उठाया जाता है। हमने उसी पर चर्चा की। अमेरिका द्वारा आश्वाशन का कोई सवाल नहीं, हमने केवल चर्चा की। अमेरिका हमारा सहयोगी है, इसके बारे में कोई दोतरफा राय नहीं है। हम सभी देशों के साथ अच्छे संबंध बनाए रखना चाहते हैं।”

पढें अंतरराष्ट्रीय (International News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट