ताज़ा खबर
 

ईरान समर्थित हूती विद्रोहियों का सैन्य शिविर में हमला, मृतक सैनिकों की तादाद 100 के पार पहुंची

ईरान समर्थित हूती विद्रोहियों और सऊदी अरब के नेतृत्व वाले सैन्य गठबंधन सर्मिथत यमन सरकार के बीच जारी युद्ध में कुछ महीनों की अपेक्षाकृत शांति के बाद यह हमला हुआ।

Author नई दिल्ली | Updated: January 20, 2020 10:30 AM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (AP)

यमन के मारिब में सैन्य शिविर में एक मस्जिद पर मिसाइल और ड्रोन हमले में 100 से अधिक सैनिकों की मौत हो गई और दर्जनों सैनिक घायल हो गए। चिकित्सकीय एवं सैन्य सूत्रों ने रविवार (19 जनवरी, 2020) को यह जानकारी दी। इन हमलों के लिए हूती विद्रोहियों को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। ईरान समर्थित हूती विद्रोहियों और सऊदी अरब के नेतृत्व वाले सैन्य गठबंधन सर्मिथत यमन सरकार के बीच जारी युद्ध में कुछ महीनों की अपेक्षाकृत शांति के बाद शनिवार को यह हमला हुआ।

सैन्य सूत्रों ने बताया कि हूती विद्रोहियों ने सना के पूर्व में करीब 170 किलोमीटर दूर मारिब में शनिवार शाम को नमाज के दौरान एक सैन्य शिविर में मस्जिद पर हमला किया। यमन के विदेश मंत्रालय ने ट्वीट किया, ‘‘हम हूती विद्रोहियों द्वारा मस्जिद पर किए हमले की कड़ी निंद करते हैं… जिसमें 100 से अधिक लोग मारे गए और दर्जनों घायल हुए हैं।’’ हताहतों को मारिब शहर के एक अस्पताल ले जाया गया।

अस्पताल के एक चिकित्सकीय सूत्र ने इससे पहले बताया था कि हमले में 83 सैनिक मारे गए हैं और 148 अन्य घायल हुए हैं। इस हमले से एक दिन पहले गठबंधन सर्मिथत सरकारी बलों ने सना के उत्तर में स्थित नाहम क्षेत्र में हूती विद्रोहियों के खिलाफ एक बड़ा अभियान चलाया था। आधिकारिक संवाद समिति ‘सबा’ के अनुसार एक सैन्य सूत्र ने बताया कि नाहम में संघर्ष रविवार को भी जारी रहा। इस बीच, सूत्रों ने कहा, ‘‘(हूती) मिलिशिया के दर्जनों लोग हताहत हुए हैं।’’ यमन ने राष्ट्रपति अबेदरब्बो मंसूर हादी ने इस ‘‘कायराना और आतंकवादी’’ हमले की निंदा की है।

‘सबा’ ने हादी के हवाले से कहा, ‘‘ हूती मिलिशिया का यह शर्मनाक कदम इस बात की निस्संदेह पुष्टि करता है कि वह शांति के इच्छुक नहीं है, क्योंकि उसे मौत और विनाश के अलावा कुछ नहीं आता और वह क्षेत्र में ईरान का घटिया हथियार है।’’ हूती विद्रोहियों ने इस हमले की तत्काल जिम्मेदारी नहीं ली है और ‘सबा’ ने अपनी रिपोर्ट में मृतक संख्या नहीं बताई है। ये हमले ऐसे समय में हुए हैं जब बृहस्पतिवार को संयुक्त राष्ट्र दूत मार्टिन ग्रिफिथ्स ने हमलों में आई कमी का स्वागत किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पाकिस्तान में एक और हिंदू लड़की का अपहरण, नाबालिग के परिजन बोले- जबरन धर्मांतरण कराया
2 प्रिंस हैरी और मेगन मर्केल ने छोड़ा ब्रिटिश राजशाही घराना और रॉयल उपाधि, पब्लिक फंड इस्तेमाल से भी इनकार
3 ट्रंप ने ईरान के सर्वोच्च नेता को दी चेतावनी, ‘संभल कर बात करने’ की दी हिदायत
ये पढ़ा क्या?
X