ताज़ा खबर
 

प्री पोल सर्वे में डोनाल्ड ट्रंप से आगे निकलीं हिलेरी क्लिंटन

डेमोक्रेटिक पार्टी की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन को अपने रिपब्लिकन प्रतिद्वंद्वी डोनाल्ड ट्रंप पर ठोस बढ़त मिलती दिख रही है।

Author क्लीवलैंड | July 19, 2016 1:02 AM
Donald Trump, Hillary Clinton, Donald Trump Challenge, Donald Trump and Hillary Clinton, 2020 American Presidential Election, Presidential Polls, USA President Donald Trump, Donald Trump Urges, International News, Jansattaट्रंप ने कहा कि राष्ट्रपति पद के चुनाव में हिलेरी की हार के कई कारण हैं।

डेमोक्रेटिक पार्टी की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन को अपने रिपब्लिकन प्रतिद्वंद्वी डोनाल्ड ट्रंप पर ठोस बढ़त मिलती दिख रही है। रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रीय सम्मेलन से पहले यहां हाल ही में जारी तीन सर्वेक्षणों में यह अनुमान लगाया गया है। अमेरिका की पहली महिला राष्ट्रपति बनने की दिशा में बढ़ रहीं हिलेरी को ट्रंप के मुकाबले चार से सात फीसद अंकों की बढ़त हासिल हो रही है। रियल एस्टेट कारोबारी अरबपति ट्रंप रिपब्लिकन पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी पर अपना दावा इस हफ्ते पेश करेंगे। एबीसी और वाशिंगटन पोस्ट के सर्वे में ट्रंप के मुकाबले हिलेरी को चार अंकों की बढ़त दी गई है, जबकि सीएनएन ओआरसी इंटरनेशनल पोल में ट्रंप सात अंकों से पिछड़ रहे हैं। एबीसी न्यूज वॉल स्ट्रीट जर्नल में पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन पांच फीसद अंकों से आगे हैं। सभी प्रमुख राष्ट्रीय चुनावों का लेखा-जोखा रखने वाली वेबसाइट रियलक्लियर पॉलिटिक्स डॉट कॉम का कहना है कि प्रमुख राष्ट्रीय चुनावों के औसत के तौर पर ट्रंप के मुकाबले हिलेरी 3.2 फीसद अंकों से आगे हैं।लेकिन राष्ट्रपति पद के दोनों ही उम्मीदवारों को लोकप्रिय नहीं कहा जा सकता क्योंकि एबीसी पोस्ट सर्वे के मुताबिक 58 फीसद मतदाताओं का कहना हैै कि वे पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की पत्नी हिलेरी क्लिंटन और किसी समय टेलीविजन के एक रियलिटी शो के होस्ट रह चुके ट्रंप के बीच अपनी पसंद से संतुष्ट नहीं हैं।

इसमें कहा गया है कि 64 फीसद लोग ट्रंप को प्रतिकूल ढंग से देखते हैं जबकि 54 फीसद हिलेरी को नकारात्मक ढंग से देखते हैं। हिलेरी की बढ़त में आई मामूली गिरावट की एक वजह जुलाई में एफबीआइ निदेशक जेम्स कॉमे का उन पर लगाए गए आरोप हंै जिसमें उन्होंने कहा था कि पूर्व विदेश मंत्री ने निजी ईमेल सर्वर का इस्तेमाल कर गंभीर लापरवाही बरती। इधर, ट्रंप ने कहा है कि वे आइएस के खिलाफ युद्ध घोषित करेंगे। अमेरिका के राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि अगर वे चुने जाते हैं तो इस्लामिक स्टेट के खिलाफ युद्ध छेड़ देंगे लेकिन खूंखार आतंकी संगठन से मुकाबला करने के लिए बहुत कम अमेरिकी सैनिकों को लड़ाई के मैदान में भेजेंगे। ट्रंप ने एक टीवी चैनल पर एक सवाल के जवाब में कहा, ‘हम लोगों के साथ ऐसे लोग हैं जो हमें खत्म कर देना चाहते हैं। हम लोग आइएस के खिलाफ युद्ध की घोषणा करेंगे। हम लोगों को आइएस को खत्म करना है।’ उन्होंने विस्तार से कहा, ‘मैं जमीनी स्तर पर बहुत कम सैनिकों को भेजूंगा। हम लोगों के पास अविश्वसनीय खुफिया तंत्र होगा, जिसकी जरूरत है और वर्तमान में जो नहीं है। हम लोगों के पास वहां वैसे लोग नहीं हैं।’

ट्रंप ने कहा, ‘हम लोग पड़ोसी देशों और नाटो को इसमें शामिल करेंगे क्योंकि हम लोग नाटो को जरूरत से ज्यादा समर्थन देते हैं क्योंकि कई ऐसे देश हैं, जो ऐसा नहीं कर रहे हैं, जैसा उन्हें करना है। हम लोगों को आइएस को खत्म करना है।’ उपराष्ट्रपति पद के लिए ट्रंप की पसंद माइक पेंसे ने कहा कि अमेरिका को ट्रंप की अगुआई की जरूरत है।
ट्रंप ने दावा किया कि उनके प्रशासन में अमेरिका आइएस से निजात पा लेगा। वहीं हिलेरी क्लिंटन की प्रचार मुहिम ने डोनाल्ड ट्रंप पर निशाना साधते हुए कहा है कि विवादों में घिरे रहने वाले ट्रंप से स्वयं रिपब्लिकन पार्टी के सदस्य ही खुश नहीं हंै और उन्हें पार्टी उम्मीदवार नहीं बनाना चाहते जिससे यह साबित होता है कि वह अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में सेवाएं देने के लिए फिलहाल उपयुक्त नहीं हैं।

हिलेरी फोर ओहायो स्टेट निदेशक क्रिस व्यैंट ने कहा, ‘रिपब्लिक पार्टी के सदस्य दो साल पहले क्लीवलैंड में एक ऐसे एकीकृ त रिपब्लिकन कंवेंशन की कल्पना कर रहे थे जिससे उन्हें राष्ट्रपति पद के चुनाव का अहम मुकाबला जीतने में मदद मिल सके लेकिन उनका यह सपना साकार नहीं हो सका।’ उन्होंने रिपब्लिकन पार्टी के चार दिवसीय कन्वेंशन की शुरुआत पर जारी अपने ज्ञापन में कहा कि ट्रंप की पिछले एक साल से ज्यादा की कथनी और करनी साबित करते हैं कि वे राष्ट्रपति के रूप में सेवाएं देने के लिए अनुपयुक्त हैं, जिसके बाद से ओहायो के रिपब्लिकन सदस्य ट्रंप को उम्मीदवार बनाने से बच रहे हैंं। व्यैंट ने कहा, ‘एक ओर ट्रंप यहां रिपब्लिकन सदस्यों के बीच फूट पैदा कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर ओहायो के लोग हिलेरी क्लिंटन की उम्मीदवारी को लेकर एकजुट हैं। उनका साझा रूप से यह मानना है कि हम एकजुट होकर और मजबूत हैं।’

Next Stories
1 चीन ने दक्षिण चीन सागर में सैन्य अभ्यास की घोषणा की
2 रिश्वत के मामले में राजपक्षे के बेटे को मिली जमानत, भाई को पुलिस ने किया गिरफ्तार
3 कॉरिडोर बनाने में पाकिस्‍तान की देरी से चीन नाराज, कहा- सेना को कमान सौंपे सरकार, बढ़ा तनाव
यह पढ़ा क्या?
X