ताज़ा खबर
 

लगातार दूसरी बार ईरान के राष्ट्रपति बने हसन रूहानी, उदारवादी रवैये के चलते मिली जीत

यह चुनाव मुख्य रूप से रूहानी की अपेक्षाकृत उदारवादी राजनीतिक नीतियों पर जनमत संग्रह है।

Author May 20, 2017 7:35 PM
यह चुनाव मुख्य रूप से रूहानी की अपेक्षाकृत उदारवादी राजनीतिक नीतियों पर जनमत संग्रह है। (PTI)

ईरान के सरकारी टेलीविजन ने मौजूदा राष्ट्रपति हसन रूहानी को देश में राष्ट्रपति पद के चुनाव का विजेता घोषित कर दिया है। सरकारी टीवी ने मतों के आंकड़ों के आधार पर शनिवार एक संक्षिप्त बयान में उन्हें बधाई दी थी। 68 वर्षीय रूहानी देश में व्यापक राजनीतिक आजादी एवं बाहरी दुनिया के देशों के साथ मधुर संबंधों के अपने वादे से ज्यादा उदारवादी एव सुधारवादी मानसिकता वाले ईरानियों के लिये उम्मीद बनकर उभरे हैं। अधिकारियों ने बताया है कि चार करोड़ से अधिक लोगों ने मतदान में हिस्सा लिया।

उप गृहमंत्री अली अशगर अहमदी ने टेलीविजन पर प्रसारित एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कल हुए चुनाव में चार करोड़ से अधिक ईरानियों ने मतदान किया यानी 70 प्रतिशत मतदाताओं ने मताधिकार का प्रयोग किया। चुनाव अधिकारियों ने मतदाताओं की लंबी कतारों के मद्देनजर मतदान करने का समय आधी रात तक कई बार बढ़ाया। कुछ मतदाताओं ने कहा कि मतदान करने के लिए उन्होंने घंटों कतारों में खड़े होकर इंतजार किया।

यह चुनाव मुख्य रूप से रूहानी की अपेक्षाकृत उदारवादी राजनीतिक नीतियों पर जनमत संग्रह है। इन नीतियों के कारण वर्ष 2015 में हुए ऐतिहासिक परमाणु समझौते का मार्ग प्रशस्त हुआ जिसके तहत ईरान को उसके परमाणु कार्यक्रम पर रोक लगाने के बदले कुछ अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों से राहत मिली थी।

अब तक हुई दो करोड़ 51 लाख मतों की गणना के अनुसार रूहानी एक करोड़ 46 लाख मतों के साथ आगे हैं। उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी कट्टरपंथी धर्मगुरू इब्राहिम रईसी को एक करोड़ एक लाख मत मिले हैं। दो अन्य उम्मीदवारों पूर्व संस्कृति मंत्री मुस्तफा मीरसलीम को दो लाख 97 हजार और वर्ष 2001 में भी राष्ट्रपति पद के चुनाव में खड़े होने वाले मुस्तफा हाशिमाताबा को एक लाख 39 हजार मत मिले। ईरान का राष्ट्रपति ईरान की राजनीतिक प्रणाली में दूसरा सबसे शक्तिशाली नेता होता है। उसके ऊपर देश का सर्वोच्च नेता होता है। अहमदी ने कहा कि गृहमंत्री को आज बाद में परिणाम आने की उम्मीद है।

देखिए वीडियो - गिरफ्तारी से बचने के लिए देश छोड़ कर चले गये जस्टिस सीएस कर्णन; कहा- "राष्ट्रपति बुलाएंगे तभी आएंगे"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App