ताज़ा खबर
 

हज भगदड़ में मरनेवाले 14 भारतीयों में से नौ गुजरात के

सऊदी अरब में हज के दौरान मची भगदड़ में 14 भारतीयों की भी मौत हुई है। मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर 719 हो गई है। घायल हुए 863 लोगों में 13 भारतीय हैं..

Author मीना | September 26, 2015 8:42 AM
हज भगदड़ में मरने वालों की संख्या बढ़कर 719 हो गई है। घायल हुए 863 लोगों में 13 भारतीय हैं। (फोटो-एपी)

सऊदी अरब में हज के दौरान मची भगदड़ में 14 भारतीयों की भी मौत हुई है। मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर 719 हो गई है। घायल हुए 863 लोगों में 13 भारतीय हैं। हज के दौरान निभाई जाने वाली अंतिम सबसे बड़ी रस्म में 180 देशों से आए 20 लाख हजयात्री हिस्सा ले रहे थे।

भगदड़ में मारे गए भारतीयों में नौ गुजरात के हैं। एक आधिकारिक बयान के मुताबिक, गुजरात के पीड़ितों की पहचान मोहम्मद हनीफ हसनभाई शेख, मोहम्मद मदीनाबीबी, मोहम्मद हनीफ, दीवान अयूबशा बफैसाह, दीवान जुबेदाबीबी अयूबशा, सोडा रहमत कासम, बेतरा फतमाबेन करीम, बोलिम हवबई इशक, नागोरी जोहराबीबी महम्मदशफी और नागोरी रुखसाना मोहम्मद इशाक के रूप में की गई है।

यह भगदड़ उस समय मची, जब हजयात्रियों की दो भारी कतारें, अलग-अलग दिशाओं से एक-दूसरे के सामने आ गर्इं। यह स्थान मीना के जमारात पुल की उस पांच मंजिला इमारत के करीब है, जहां पत्थर से बनी तीन दीवारों पर पत्थर फेंककर प्रतीकात्मक रूप से शैतान को पत्थर मारने की रस्म निभाई जाती है।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट किया, ‘जेद्दा में हमारे महावाणिज्य दूत ने भगदड़ में 14 भारतीयों के मारे जाने की जानकारी दी है’। उन्होंने कहा कि त्रासदी में घायल होने वाले 800 से ज्यादा लोगों में 13 भारतीय शामिल हैं। लेकिन सटीक संख्या का पता सऊदी अधिकारियों के पुष्टि किए जाने के बाद ही चल पाएगा’।

हज यात्रा के दौरान हजयात्री मीना जाते हैं, जहां वे जमारात कहलाने वाले खंभों पर सात पत्थर मारते हैं। जमारात शैतान का प्रतीक होता है। ऐसा माना जाता है कि ये खंभे उस स्थान पर हैं, जहां शैतान ने पैगंबर अब्राहम को प्रलोभन दिया था।

ईरान ने अपने 131 नागरिकों के मारे जाने की पुष्टि की है जबकि पाकिस्तान ने कहा है कि उसके छह हजयात्रियों ने अपनी जान गंवाई है। इस बीच, सऊदी अरब के सुल्तान सलमान ने त्रासदी के बाद हज यात्रा की सुरक्षा समीक्षा के आदेश दिए हैं। सुल्तान ने कहा, ‘हजयात्रियों के आवागमन के प्रबंधन और व्यवस्था के स्तर में सुधार लाने की जरूरत है।’

मृतकों और घायलों के परिजनों के प्रति संवेदना जताते हुए उन्होंने कहा, ‘हमने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे संचालन योजना की समीक्षा करें और खुदा के मेहमानों के लिए आराम और आसानी से रस्मों की अदायगी सुनिश्चित करने के लिए व्यवस्था और प्रबंधन का स्तर ऊंचा करें।’ सऊदी अरब के शहजादे और हज समिति के अध्यक्ष ने इस त्रासदी की जांच शुरू कर दी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App