ताज़ा खबर
 

पाक से अपनी दुश्मनी में भारत से ‘आगे निकल’ गया है अमेरिका: हाफिज सईद

जमात उद दावा प्रमुख हाफिज सईद ने कहा, ‘वास्तव में अमेरिका का निशाना पाकिस्तान का परमाणु कार्यक्रम है और वह (अमेरिका) इजराइल और भारत की मदद से उसे नुकसान पहुंचाना चाहता है।’

Author लाहौर | June 12, 2016 6:55 PM
जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद (एपी फोटो)

जमात उद दावा प्रमुख हाफिज सईद ने कहा है कि पाकिस्तान से अपनी दुश्मनी में अमेरिका भारत से ‘आगे निकल’ गया है और उसके परमाणु कार्यक्रम को नुकसान पहुंचाना चाहता है। सईद ने शनिवार (11 जून) को यहां चाउबुर्जी में जमात उद दावा मुख्यालय में जमात उद दावा के सहायक संगठन फलाहे इंसानियत फाउंडेशन (एफआईएफ) सदस्यों को संबोधित करते हुए कहा, ‘पाकिस्तान के साथ अपनी दुश्मनी में अमेरिका भारत से ‘आगे निकल’ गया है। उसने यह जांचने के लिए बलूचिस्तान में तालिबान प्रमुख मुल्ला अख्तर मंसूर को मारने के लिए ड्रोन हमला किया कि पाकिस्तान कोई प्रतिक्रिया करता है या नहीं।’

उसने कहा, ‘वास्तव में अमेरिका का निशाना पाकिस्तान का परमाणु कार्यक्रम है और वह (अमेरिका) इजराइल और भारत की मदद से उसे नुकसान पहुंचाना चाहता है।’ सईद की टिप्पणी पाकिस्तान द्वारा देश की यात्रा पर आए अमेरिका के एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल के समक्ष बलूचिस्तान में 21 मई के ड्रोन हमले को लेकर विरोध दर्ज कराने के एक दिन बाद आई है जिसमें मंसूर मारा गया था।

पाकिस्तान की यात्रा पर आए अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल में अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद में अफगानिस्तान और पाकिस्तान के लिए वरिष्ठ निदेशक पीटर लैवाय और अफगानिस्तान और पाकिस्तान के लिए विशेष प्रतिनिधि रिचर्ड ओल्सन शामिल थे। प्रतिनिधिमंडल को बताया गया कि हमले से ‘द्विपक्षीय संबंध खराब हुए है।’

वर्ष 2008 के मुम्बई हमले में भूमिका के लिए सईद के सिर पर एक करोड़ डॉलर का इनाम है। उसने कहा, ‘पाकिस्तान के खिलाफ अमेरिका, इस्राइल और भारत के खतरनाक गठजोड़ के बारे में इस देश के लोगों को बताना हमारा कर्तव्य है।’ उसने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से कहा कि वह देश में आतंकवाद के खात्मे के लिए अमेरिका की ओर देखना बंद कर दें। लश्करे तैयबा संस्थापक सईद ने यह भी कहा कि पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम को निशाना बनाने के लिए भारत अपने हवाई अड्डों पर प्रक्षेपास्त्र प्रणाली लगा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App