ताज़ा खबर
 

आतंकी हाफिज सईद के खिलाफ पाक कोर्ट तय नहीं कर सकी आरोप, दूसरे आरोपी को पेश ही नहीं कर सके अफसर

‘पंजाब पुलिस के आतंकवाद रोधी विभाग की प्राथमिकी 30/19 के तहत हाफिज सईद और अन्यों के खिलाफ मामले पर आतंकवाद के वित्त पोषण के संबंध में आतंकवाद रोधी अदालत-1 में आरोप तय किए जाने थे लेकिन आश्चर्यजनक रूप से सह-आरोपी मलिक जफर इकबाल को जेल से पेश नहीं किया गया।

आतंकवादी हाफिज सैयद के खिलाफ तय हुए आरोप

लाहौर की आतंकवाद रोधी अदालत मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड और प्रतिबंधित जमाद-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद के खिलाफ आतंकवाद के वित्त पोषण के आरोप तय नहीं कर सकी क्योंकि अधिकारी आश्चर्यजनक रूप से शनिवार को इस हाई प्रोफाइल सुनवाई में एक सह-आरोपी को पेश करने में नाकाम रहे। आतंकवाद रोधी अदालत (एटीसी) ने लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक और एक अन्य सह-आरोपी मलिक जफर इकबाल के खिलाफ आरोपों को तय करने के लिए अब 11 दिसंबर की तारीख तय की है।

अदालत के एक अधिकारी ने सुनवाई के बाद पीटीआई से कहा, ‘‘पंजाब पुलिस के आतंकवाद रोधी विभाग की प्राथमिकी 30/19 के तहत हाफिज सईद और अन्यों के खिलाफ मामले पर आतंकवाद के वित्त पोषण के संबंध में आतंकवाद रोधी अदालत-1 में आरोप तय किए जाने थे लेकिन आश्चर्यजनक रूप से सह-आरोपी मलिक जफर इकबाल को जेल से पेश नहीं किया गया।

इसके कारण मामले को आरोप तय करने के लिए 11 दिसंबर तक मुल्तवी किया जाता है।’’ सईद को लाहौर की कोट लखपत जेल से उच्च सुरक्षा के बीच अदालत लाया गया। पत्रकारों को सुरक्षा कारणों से सुनवाई की रिपोर्टिंग करने के लिए अदालत परिसर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं थी। अदालत के अधिकारी ने बताया कि न्यायाधीश अरशद हुसैन भुट्टा ने अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि इकबाल 11 दिसंबर को अगली सुनवाई में पेश हो।

वहीं दूसरी ओर पाकिस्तानी आतंकवादी गुट लश्कर-ए-तैयबा का सहयोगी संगठन फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकी घोषित किए जाने के बावजूद साइबर क्षेत्र में सक्रिय बना हुआ है। यह बात केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने पिछले दिनों बयां की थी। उन्होंने कहा था कि कुछ देशों में आतंकी संगठन कट्टरपंथ को बढ़ावा देने तथा अपने हितों को साधने के लिहाज से धन के लेन-देन के लिए ‘गैर लाभ वाले संगठनों (एनपीओ)’ का भी इस्तेमाल करते हैं। उनका इशारा जाहिर तौर पर पाकिस्तान से चल रहे आतंकी समूहों की तरफ था। रेड्डी मेलबर्न में ‘आतंकवाद के लिए धन नहीं’ सम्मेलन के दूसरे दिन संबोधित कर रहे थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 महाभियोग सुनवाई के दौरान डोनाल्ड ट्रम्प के नाबालिग का बेटे लिया नाम, अब स्टैनफोर्ड की प्रोफेसर ने मांगी माफी
2 महाभियोग सुनवाई के बाद व्हाइट हाउस ने कहा: ट्रम्प के लिए अच्छा दिन, डेमोक्रेट के लिए खराब दिन, समझें कैसे?
3 12 साल पुराने देशद्रोह मामले में मुशर्रफ के खिलाफ 17 दिसंबर को सुनाई जाएगी सजा
ये पढ़ा क्या?
X