ताज़ा खबर
 

शादी के नाम पर शारीरिक सुख के लिए बेची गईं 9-9 साल की लड़कियां! मुस्लिम धर्मगुरुओं के VIDEO पर बवाल

कम उम्र की लड़की की तस्वीर दिखाने के बाद धर्मगुरु ने रिपोर्ट से पूछा, "तुम कब वापस आ रहे हो, अब वह तुम्हारी है।" उसने यह भी कहा, "वह (लड़की) इच्छुक है और तुम उसे पैसे दे दो।"

Author Updated: October 14, 2019 1:03 PM
शिया धर्मगुरु ने शारीरिक सुख के लिए 9 साल तक की बच्ची के साथ अस्थाई विवाह को उचित बताया। (स्क्रीन ग्रैब, वीडियो सोर्स: द सन)

शादी के नाम पर शारीरिक सुख के लिए 9-9 साल की लड़कियों को बेचने का मामला सामने आया है। बीसीसी की एक डॉक्यूमेंट्री में गोपनीय ढंग से शिया मुस्लिम धर्मगुरुओं का एक वीडियो फिल्माया गया है, जिसमें वे 9 साल की बच्ची के साथ अस्थाई विवाह करके शारीरिक संबंध बनाने को उचित बता रहे हैं। वीडियो में एक शिया धर्मगुरु ने दावा किया है कि शरिया के मुताबिक 9 साल की लड़की से शादी करना गुनाह नहीं है। गौरतलब है कि यह पड़ताल इराक में की गई है। इराक में इस तरह की प्रथा पर प्रतिबंध है। लेकिन, खुफिया कैमरे के सामने 10 में से 8 धर्मगुरुओं ने इस पर अमल करने की बात कही।

सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि बीबीसी न्यूज की पड़ताल में इन धर्मगुरुओं में से एक ने तो कम उम्र की लड़की मुहैया कराने तक की बात कही। गौरतलब है कि शारीरिक सुख के लिए निकाह की प्रथा सैकड़ों साल पुरानी है, जिसमें आंशिक रूप से पुरुषों को अपनी पत्नी से दूर रहने की सूरत में दूसरे के साथ जायज तौर पर (अस्थाई शादी) संबंध स्थापित कर सकते हैं। लेकिन, इराक के पुरुष और धर्मगुरु इसका इस्तेमाल गलत ढंग से बच्चों के देह-व्यापार में कर रहे हैं।

कर्बला में बीबीसी के खुफिया पत्रकार को एक धर्मगुरु ने बताया कि 9 साल तक की कम उम्र की बच्ची के साथ अस्थाई निकाह किया जा सकता है। इसमें वह यह भी बता रहा है कि यह शरिया कानून के हिसाब से जायज है। वहीं, एक दूसरे धर्मगुरु से जब रिपोर्टर ने पूछा कि क्या 13 साल की लड़की के साथ इस्लाम में शादी की जा सकती है। इस पर धर्मगुरु ने बेहद आपत्तिजनक अंदाज में कहता है, “सावधान रहना, कहीं उसकी वर्जिनिटी भंग न हो चुकी हो।” जब उससे पूछा गया कि कहीं लड़की चोटिल तो नहीं हो जाएगी। इस पर धर्मगुरु ने बताया कि अब उसका और लड़की के बीच का मामला है।

बीबीसी की इसी डॉक्यूमेंट्री में एक दूसरे धर्मगुरु ने शादी के लिए कमसीन लड़की को खोजने की बात कही। इस दौरान उसने रिपोर्ट को तस्वीर की भी पेशकश की और पूछा, “तुम कब वापस आ रहे हो, अब वह तुम्हारी है।” उसी धर्मगुरु ने यह भी कहा, “वह इच्छुक है और तुम उसे पैसे दे दो।” इराक में जारी इस प्रथा के बारे में मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि अस्थाई विवाह कि मियाद एक घंटे से लेकर 99 साल तक की हो सकती है। इस दौरान चौंकाने वाला खुलासा अस्थाई विवाह करने वाली लड़कियों ने किया। उनका कहना था कि कुछ धर्मगुरु तो उन्हें कॉन्ट्रासेप्टिव इंजेक्शन भी मुहैया कराते हैं, ताकि वे गर्भवती न हो सकें। गौरतलब है कि यह प्रथा सुन्नी इस्लाम में वर्जित है और सद्दाम हुसैन के शासनकाल में इस पर प्रतिबंध था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पिछले 6 दशक का सबसे भयानक तूफान ‘हगिबिस’ की मार झेल रहा जापान, 19 की मौत, 16 लापता
2 अंतरराष्ट्रीय संबंधों के लिए महत्वपूर्ण है पोलैंड का संसदीय चुनाव
3 इस पाकिस्तानी मॉडल से कराई जा रही थी गुलामी! यूके पहुंचने के बाद मांगी थी शरण, अब हुईं लापता