ताज़ा खबर
 

पाकिस्‍तान: भ्रष्‍टाचार में पूर्व पीएम नवाज शरीफ को 7 साल की जेल, 17.5 करोड़ रुपए का जुर्माना

पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पूर्व पीएम को लेकर यह सजा भ्रष्टाचार के शेष दो मामलों में सुनाई गई है।

Author December 24, 2018 4:13 PM
पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ। (फोटोः रॉयटर्स)

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को अल-अजिजिया स्टील मिल्स भ्रष्टाचार मामले में सात साल की सजा सुनाई गई है। पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक, भ्रष्टाचाररोधी कोर्ट ने उन पर लगभग 17.5 करोड़ रुपए का जुर्माना भी लगाया है, जबकि फ्लैगशिप इन्वेस्टमेंट्स मामले में उन्हें बरी कर दिया गया है। पूर्व पीएम के खिलाफ भ्रष्टाचार के इन दोनों शेष मामलों में सोमवार (24 दिसंबर) को कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया है।

स्थानीय रिपोर्ट्स के मुताबिक, पीएमएल-एन नेता को कोर्ट के फैसले के बाद हिरासत में ले लिया गया। अब उन्हें वहां से जेल भेजा जाएगा। पूर्व पीएम को जेल ले जाने के लिए कोर्ट परिसर के बाहर सुरक्षाकर्मी और कुछ वाहन मौजूद थे। हालांकि, अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि उन्हें रावलपिंडी की अदीदा जेल ले जाया जाएगा या फिर लाहौर की कोट लखपत जेल में रखा जाएगा।

शरीफ जैसे ही कोर्ट रूम में दाखिल हुए थे, उसके कुछ ही क्षणों बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया था। हालांकि, पूर्व पीएम के पास इस फैसले को चुनौती देने का विकल्प था। भ्रष्टाचाररोधी कोर्ट क जज अरशद मलिक के हवाले से ‘द डॉन’ की रिपोर्ट में कहा गया कि फ्लैगशिप मामले में पूर्व पीएम के खिलाफ कोई मामला नहीं दर्ज हुआ है। उनके मुताबिक, पूर्व पीएम को अल-अजिजिया मामले में नेशनल एकाउंटेबिलिटी ऑर्डिनेंस की धारा 9 (ए) (5) के तहत सजा सुनाई गई।

कोर्ट के आदेशानुसार, अल-अजिजिया स्टील मिल्स मामले को लेकर पूर्व पीएम की संपत्तियां जब्त की जाएंगी, मगर अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि इस दायरे में उनकी कौन सी संपत्तियां आएंगी। वहीं, नवाज के वकील ख्वाजा हारिस ने दरख्वास्त की कि पूर्व पीएम को अदीदा जेल के बजाय लाहौर की कोट लखपत जेल ले जाया जाए।

कोर्ट ने इस दरख्वास्त पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया और नवाज की मेडिकल रिपोर्ट्स की मांग की। बता दें कि शरीफ पहले ही भ्रष्टाचार के मामलों में सजा काट रहे हैं। इन्हीं सब कारणों के चलते पीएम पद से उन्हें हाथ धोना पड़ा था और वहां के कोर्ट ने उन्हें बर्खास्त कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App