ताज़ा खबर
 

कुलभूषण जाधव: मां और पत्नी से मिलेंगे पूर्व नेवी ऑफिसर, पाकिस्तान ने ली सुरक्षा की गारंटी

कुलभूषण जाधव 25 दिसंबर को पाकिस्तान में अपनी पत्नी और मां अवन्ती जाधव से मुलाकात करेंगे।

भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव (File Photo)

पाकिस्तान ने इंडियन नेवी के पूर्व ऑफिसर कुलभूषण जाधव को उनकी पत्नी और मां से मिलने की इजाजत दे दी है।  कुलभूषण जाधव 25 दिसंबर को पाकिस्तान में अपनी पत्नी और मां अवन्ती जाधव से मुलाकात करेंगे। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने इसकी इजाजत दे दी है। मुलाकात के दौरान पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग का एक अधिकारी भी मौजूद रहेगा। भारत ने कुलभूषण जाधव की पत्नी और मां की सुरक्षा के लिए पाकिस्तान से सॉवरेन बॉन्ड की मांग की है। पाकिस्तान ने कहा है कि भारत से पाकिस्तान जाने वाले लोगों की सुरक्षा के पूरे इंतज़ाम होंगे। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के मुताबिक पाक सरकार के फैसले की जानकारी इस्लामाबाद स्थित भारतीय उच्चायोग को दे दी गई है। पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जाधव को पाकिस्तान में जासूसी और आंतकवादी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप के तहत मौत की सजा सुनाई है। भारत ने शुरू से ही पाकिस्तान के इन आरोपों को बेबुनियाद और झूठ का पुलिंदा बताया है।

बता दें कि इस मामले में जाधव ने क्षमादान की मांग करते हुए पाकिस्तान सैन्य प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा को एक अर्जी दी थी, जो अब भी लंबित है। अक्तूबर में पाकिस्तान सेना ने कहा था कि वह जाधव की क्षमादान याचिका पर फैसले के बेहद करीब है। पाकिस्तान का दावा है कि ईरान से पाकिस्तान में कथित तौर पर घुसे जाधव को उसके सुरक्षा बलों ने पिछले साल तीन मार्च को अशांत बलूचिस्तान प्रांत से गिरफ्तार किया था। बहरहाल भारत इस बात पर कायम है कि नौसेना से सेवानिवृत्त होने के बाद ईरान में कारोबार कर रहे जाधव को ईरान से अगवा किया गया था। जाधव की सजा पर भारत में तीखी प्रतिक्रिया हुई थी। भारत के अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में संपर्क करने के बाद 18 मई को 10 सदस्यीय खंडपीठ ने मामले में कोई निर्णय होने तक पाकिस्तान को जाधव को फांसी देने से रोक दिया था। आईसीजे ने पाकिस्तान को 13 दिसंबर तक अदालत के समक्ष अपना जवाब या निवेदन पत्र दाखिल करने के लिये कहा है ताकि वह मामले में आगे की कार्रवाई शुरू कर सके।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App