ताज़ा खबर
 

अफ्रीकी नागरिकों पर हमले के बाद सक्रिय हुई सरकार

दिल्ली में अफ्रीकी नागरिकों पर हमलों की ताजा घटनाओं को देखते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रविवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह से बातचीत कर अफ्रीकी नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने पर जोर दिया।

हार्ट आॅफ एशिया सम्मेलन में भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज। (पीटीआई फोटो)

दिल्ली में अफ्रीकी नागरिकों पर हमलों की ताजा घटनाओं को देखते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रविवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह से बातचीत कर अफ्रीकी नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने पर जोर दिया। राजनाथ ने दिल्ली पुलिस को हमलावरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने और उनकी बसावट वाले इलाकों में गश्त तेज करने को कहा है। सुषमा ने कहा कि जिन इलाकों में अफ्रीकी नागरिक रहते हैं, उनमें संवेदनशीलता बढ़ाने के लिए अभियान चलाया जाएगा। सरकार ने पिछले दिनों दिल्ली में मारे गए कांगो के युवक के शव को उसके देश भेजने का फैसला किया है। वहीं भारत में दक्षिण अफ्रीका के कार्यवाहक उच्चायुक्त ने अफ्रीकी नागरिकों पर हो रहे हमलों को ‘नस्लभेदी’ बताया है।
अफ्रीकियों पर हमले के ताजा मामलों की पृष्ठभूमि में विदेश मंत्री ने गृहमंत्री और दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग से बात की।

सुषमा ने कहा कि सिंह और जंग दोनों ने उन्हें आश्वासन दिया कि दोषियों को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा। विदेश मंत्री ने अपने ट्विटर संदेश में कहा, ‘मैंने दक्षिण दिल्ली में अफ्रीकी नागरिकों पर शनिवार के हमले के बारे में राजनाथ सिंह और दिल्ली के उपराज्यपाल से बात की। उन्होंने आश्वासन दिया कि दोषी जल्द ही गिरफ्तार किए जाएंगे। उन क्षेत्रों में लोगों को संवेदनशील बनाने का अभियान भी चलाया जाएगा, जहां अफ्रीकी नागरिक रहते हैं।’ सुषमा ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, ‘मैंने राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह और सचिव अमर सिन्हा को अफ्रीकी छात्रों से मिलने को कहा है। जिन्होंने जंतर-मंतर पर प्रदर्शन की घोषणा की है। विदेश मंत्रालय में सचिव (आर्थिक संबंध) सिन्हा हमलों के बाद अफ्रीकी समुदाय के लोगों के साथ संपर्क में हैं।’

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को दिल्ली पुलिस के आयुक्त आलोक वर्मा को अपने आवास पर बुलाया और हमलों पर चिंता जताते हुए आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया। गृहमंत्री ने वर्मा से मुलाकात के बाद ट्वीट किया, ‘दिल्ली के पुलिस आयुक्त से कुछ अफ्रीकी नागरिकों के खिलाफ हमलों की घटनाओं के संबंध में बात की। इस तरह की घटनाएं निंदनीय हैं।’ उन्होंने दिल्ली पुलिस से अफ्रीकी नागरिकों की बसावट वाले इलाकों में गश्त बढ़ाने और उनकी सुरक्षा सुनिश्चत करने को कहा। दिल्ली के पुलिस आयुक्त को हमलावरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का और सभी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उनके इलाकों में गश्त बढ़ाने का निर्देश दिया।

उधर, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने अलग से कहा कि सरकार कांगो के मारे गए युवक मासुंदा ओलिवर के परिवार को भारत आने और उसके शव को ले जाने में मदद करेगी। स्वरूप ने कहा कि मासुंदा ओलिवर की दुर्भाग्यपूर्ण मौत के मामले में सरकार उनके परिवार को भारत की यात्रा करने और उनके शव को लेने में मदद करेगी। हम अपने खर्च पर उनका पार्थिव शरीर कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य ले जाने का इंतजाम करेंगे।

भारत में दक्षिण अफ्रीका के कार्यवाहक उच्चायुक्त मालोस विलियम मोगाले ने रविवार को एक टीवी चैनल से कहा कि भारत में अफ्रीकी नागरिकों पर हो रहे हमले ‘नस्लभेदी’ है। उन्होंने कहा कि उन्हें यहां की सरकार पर पूरा यकीन है कि वह इस तरह की घटनाओं से निपट लेगी। मोगाले ने कहा, ‘ये नस्लभेदी हमले हैं। लेकिन ये सरकार की नीति नहीं है। ये ऐसे लोग हैं, जो देश, भारत की छवि धूमिल करने की मंशा रखते हों जिससे दुनिया में ये छवि बन जाए कि ये एक ऐसा देश है, जहां नस्लभेद का प्रवृत्ति बढ़ रही है और विदेशियों को आने की इजाजत नहीं है।’ उन्होंने कहा कि ये अफ्रीकी लोग देश के विकास में योगदान करने आए हैं।

कुछ प्रवासी कई कौशल के साथ आते हैं ताकि अर्थव्यवस्था को ऊंचाइयों की ओर ले जाया जा सके। उन्होंने कहा, ‘हमें भारत सरकार की क्षमता में पूरा यकीन है कि वह इन घटनाओं से निपट लेगी।’ उन्होंने कहा कि ये घटनाएं आश्चर्यजनक हैं, ‘खासकर तब जब हमारे रिश्ते दशकों पुराने हैं।’ कार्यवाहक उच्चायुक्त ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका में करीब दो हफ्ते पहले दोनों देशों के प्रतिनिधियों के बीच हुई निजी बातचीत में यह मुद्दा उठाया गया था।

इस बीच पुलिस अधिकारियों ने कहा है कि महरौली हमलों के मामले में आरोपियों की पहचान कर ली गई है। उन्हें बहुत जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। दक्षिण दिल्ली में रहने वाली युगांडा और दक्षिण अफ्रीका की दो महिलाओं और दो नाइजीरियाई व्यक्तियों ने मारपीट और डराने-धमकाने की शिकायतें दर्ज कराई हैं। वहीं एक पुलिस अधिकारी ने हमलों में छड़ों या बल्लों के इस्तेमाल की बात को खारिज करते हुए कहा कि ऐसा होता तो अलग तरह की चोटें आतीं। उन्होंने कहा कि एक महिला को नाक में चोट आई है।

पुलिस का कहना है कि इनमें से दो घटनाओं का रिश्ता अफ्रीकी नागरिकों के देर रात तेज आवाज में संगीत बजाने पर स्थानीय लोगों के एतराज और अफ्रीकी नागरिकों के एक समूह के सार्वजनिक रूप से शराब पीने पर लोगों के एतराज से जुड़ा है। तीनों घटनाएं गुरुवार को दिल्ली के महरौली थाना क्षेत्र में घटीं।
अफ्रीकी देशों के राजदूतों ने ओलिवर की हत्या पर गुरुवार को आक्रोश जताया था। इसके बाद भारत ने अफ्रीकी नागरिकों की सुरक्षा का भरोसा दिलाया था। ताजा घटनाओं के संबंध में पुलिस ने कहा कि ये अलग-अलग घटनाएं हैं और संगठित तरीके से हमलों जैसी कोई बात नहीं है।

गौरतलब है कि दक्षिणी दिल्ली के महरौली, छतरपुर, मैदान गढ़ी और राजपुर खुर्द इलाके में गुरुवार को अफ्रीकी नागरिकों पर हुए कथित हमलों के सिलसिले में दिल्ली पुलिस ने रविवार को पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। इस हमले में आधा दर्जन लोग घायल हुए थे, हालांकि पुलिस का कहना है कि इन हमलों में केवल एक नाइजीरिया नागरिक ही घायल हुआ था। उसे एम्स के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है। इलाके में शांति बनाए रखने के लिए स्थानीय लोगों और अफ्रीकी मूल के लोगों के साथ बैठकें की गईं।

पुलिस ने गुरुवार रात की घटना के संबंध में आइपीसी की धारा 341, 323, 3, 506 के तहत तीन अलग अलग मामले दर्ज किए हैं। इस मामले में बाबू, ओमप्रकाश, अजय, राहुल और कुणाल नाम के स्थानीय निवासियों को गिरफ्तार किया गया बाकी पेज 8 पर उङ्मल्ल३्र४ी ३ङ्म स्रँी 8
है। पुलिस इनके अलावा कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

दक्षिण जिले के पुलिस उपायुक्त ईश्वर सिंह ने बताया कि इन घटनाओं के लिए अफ्रीकी नागरिकों की ओर से देर रात तक तेज आवाज में संगीत बजाने और सार्वजनिक जगह पर शराब पीने पर स्थानीय लोगों का ऐतराज मुख्य कारण के रूप में सामने आया है। पुलिस को गुरुवार देर रात इस तरह की वारदातों की सूचना मिली थी। पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए वहां मुस्तैदी बढ़ाई। पुलिस ने पीसीआर की गश्त तेज कर स्थानीय लोगों को किसी तरह की अफवाह पर ध्यान न देने कहा। बीते दो दिनों से जिस तरह से स्थानीय लोगों में इस बात को लेकर गुस्सा पनपा है, उसके अंदरूनी कारणों की जांच में यह पाया गया कि अफ्रीकी मूल के नागरिक किराए पर कमरा लेकर लोगों की हिदायतों के बाद भी देर तक अपनी करतूत से बाज नहीं आते हैं।

ईश्वर सिंह ने बताया कि वे स्थानीय नागरिकों से विदेशियों के साथ मेहमान जैसा व्यवहार करने और आपस में मिल-जुलकर रहने को लेकर बैठकें करा रहे हैं। उन्होंने बताया कि जांच में नाईजीरिया नागरिक लुसी घायल मिला। उसे एम्स के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है। उन्होंने बताया कि कोई अफ्रीकी नागरिक जांच में गंभीर रूप से घायल नहीं मिला। पुलिस आयुक्त के मुताबिक कोई अफ्रीकी नागरिक पुलिस में शिकायत दर्ज कराने को तैयार नहीं हुआ।

 

Next Stories
1 यूक्रेन: वृद्धाश्रम में आग लगने से 17 लोगों की मौत
2 बांग्लादेश: पांचवें चरण के निकाय चुनावों के दौरान हिंसा में 12 की मौत
3 नौका हादसे में 40 बच्चों सहित 700 से ज्यादा की मौत
ये पढ़ा क्या?
X