ताज़ा खबर
 

फुटबॉलर ने चबाया विपक्षी टीम के खिलाड़ी का पेनिस, 5 साल के लिए लगा बैन, पीड़ित को भी 6 महीने खेल से दूर रहने की मिली सजा

डिस्ट्रिक्ट फुटबॉल अथॉरिटी के अधिकारी इमैनुएल सेलिंग ने बताया कि यह पूरी घटना मैच खत्म होने के बाद कार पार्किंग में हुई थी। दो प्लेयरों के बीच मामूली कहासुनी झड़प में तब्दील हो गई और फिर विवाद इतना ज्यादा बढ़ गया।

प्रतीकात्मक तस्वीर

फ्रांस में एक फुटबॉलर पर विपक्षी टीम के प्लेयर का पेनिस चबाने पर 5 साल का बैन लगा दिया गया है। पूर्वी फ्रांस में हुई इस घटना ने खेल भावना को तार-तार करने का काम किया है। स्थानीय लीग मैच में टेरविले और सोएट्रिक क्लब की टीमों के बीच मुकाबला था। मैच तो शांतिपूर्ण ढंग से निपट गया था, लेकिन कार पार्किंग में दोनों टीमों के दो प्लेयर्स के बीच विवाद हो गया। डेली स्टार वेबसाइट के मुताबिक विवाद के बीच एक प्लेयर ने विवाद को रोकने का प्रयास किया।

लेकिन इसी बीच एक प्लेयर ने विवाद शांत कराने आए प्लेयर का पेनिस चबा लिया। सोएट्रिक फुटबॉलर के पेनिस चबाने के चलते वह खिलाड़ी बुरी तरह जख्मी हो गया। डिस्ट्रिक्ट फुटबॉल अथॉरिटी के अधिकारी इमैनुएल सेलिंग ने बताया कि यह पूरी घटना मैच खत्म होने के बाद कार पार्किंग में हुई थी। दो प्लेयरों के बीच मामूली कहासुनी झड़प में तब्दील हो गई और फिर विवाद इतना ज्यादा बढ़ गया।

दरअसल बीते साल 17 नवंबर को यह मामला सामने आया था। जिसके बाद फुटबॉल संघ ने एक अनुशासन समिति का गठन किया था। समिति की सिफारिशों के आधार पर पेनिस चबाने वाले खिलाड़ी पर 5 साल का बैन लगा दिया गया है। इसके अलावा पीड़ित की भी झगड़े में भूमिका पाई गई है और उसे भी छह महीने के लिए खेल के मैदान से दूर रहने की सजा दी गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 Corona Virus updates: कोरोना से मरने वालों की संख्या 2,000 के पार, यूरोप में पहली मौत, अब तक 76,000 लोग संक्रमण से प्रभावित
2 ‘मेरा जन्म ही मेरी मां के रेप का सबूत है’, महिला के बयान पर गिरफ्तार हुआ रेप का आरोपी, 50 साल पुरानी है घटना
3 Corona Virus को लेकर शी जिनपिंग सरकार की आलोचना करने पर एक्टिविस्ट हुआ गिरफ्तार, सवाल उठाने पर चीन में कसा जा रहा शिकंजा