ताज़ा खबर
 

फिर बेनकाब हुआ पाकिस्तान? न्यूक्लियर स्मगलिंग में पकड़ा गया रंगे हाथ, US ने की 5 संदिग्धों की शिनाख्त

पाकिस्तान के रावलपिंडी में स्थित एक कंपनी से जुड़े 5 पाकिस्तानी मूल के लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोप है कि आरोपी पाकिस्तान के न्यूक्लियर और मिसाइल प्रोग्राम के लिए अमेरिकी तकनीक की स्मगलिंग कर रहे थे।

पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर बाजवा (REUTERS)

पाकिस्तान पर न्यूक्लियर तस्करी और अवैध रूप से मिसाइल टेक्नोलॉजी पाने के आरोप लगते रहे हैं। अब एक बार फिर यह बात साबित हुई है कि पाकिस्तान लगातार न्यूक्लियर तस्करी के संवेदनशील काम में गैरकानूनी रूप से लगा हुआ है। दरअसल अमेरिका ने पाकिस्तान के रावलपिंडी में स्थित एक कंपनी से जुड़े 5 पाकिस्तानी मूल के लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोप है कि आरोपी पाकिस्तान के न्यूक्लियर और मिसाइल प्रोग्राम के लिए अमेरिकी तकनीक की चोरी कर रहे थे।

अमेरिका के न्याय विभाग के अनुसार, कनाडा, हॉन्ग कॉन्ग, यूनाइटेड किंगडम बेस्ड 5 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए लोगों पर आरोप है कि ये लोग एक इंटरनेशनल अधिग्रहण नेटवर्क चला रहे थे, जो कि एडवांस्ड इंजीनियरिंग रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (AERO) और पाकिस्तान एटॉमिक एनर्जी कमीशन (PAEC) के लिए अमेरिकी तकनीक को चुराने का प्रयास कर रहे थे। न्याय विभाग के अनुसार, आरोपी तकनीक को बिना एक्सपोर्ट लाइसेंस के अमेरिका के बाहर भेजने का प्रयास कर रहे थे, जो कि अमेरिकी कानून का उल्लंघन है।

टॉइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, यूएस की नेशनल सिक्योरिटी के असिस्टेंट अटॉर्नी जनरल जॉन सी डेमर्स ने अपने एक बयान में कहा कि जो तकनीक स्मगल की गई है, उससे देश की सुरक्षा के लिए चिंता की बात है। जिन लोगों को अमेरिका ने गिरफ्तार किया है, उनकी पहचान पाकिस्तान के मुहम्मद कामरान वली, कनाडा के मुहम्मद अहसान वली, हाजी वली मुहम्मद शेख और ब्रिटेन के अहमद वहीद और हॉन्ग कॉन्ग के अशरफ खान मुहम्मद के रुप में हुई है।

अमेरिका ने अपने बयान में यह भी कहा है कि हथियारों की तकनीक की इस चोरी से अमेरिका के साथ ही भारत की सुरक्षा के लिए भी खतरनाक है। बता दें कि 16 साल पहले भी पाकिस्तान पर न्यूक्लियर स्मगलिंग के आरोप लगे थे। पाकिस्तान के न्यूक्लियर साइंटिस्ट एक्यू खान पर आरोप लगे थे कि उन्होंने एक डच कंपनी के सेंट्रीफ्यूज डिजाइन को चोरी किया था, जिसके आधार पर बाद में पाकिस्तान का परमाणु कार्यक्रम डेवलेप किया गया।

पाकिस्तान पर चीन की मदद से उत्तर कोरिया को भी परमाणु तकनीक बेचने के आरोप लगे हैं। इसके साथ ही एक्यू खान पर लीबिया और ईरान को भी परमाणु तकनीक बेचने के गंभीर आरोप लगे थे। हालांकि एक्यू खान ने कहा था कि पाकिस्तानी सेना उनकी गतिविधियों से वाकिफ थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 अब UN ने घटाया देश की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान, कहा- 5.7% रहेगी विकास दर; 2019 में थी 7.6 फीसदी
2 UN में पाकिस्तान को फिर झटका, J&K मुद्दे पर चर्चा की मांग खारिज, चीन छोड़ किसी ने न दिया साथ
3 शादी के दो सप्ताह बाद इमाम को लगा झटका, जिसे दुल्हन समझकर निकाह कर लाए थे वह निकला आदमी
ये पढ़ा क्या?
X