scorecardresearch

Explained: क्‍या है ब्रिटेन की नई वीजा स्कीम, जो ग्रेजुएट्स के लिए की गई है लॉन्‍च, जानें

यूके की इस वीजा पॉलिसी से दुनिया के छात्रों को होगा लाभ।

UK Visa/ Indian Student | Visa
यूके ने दुनिया के 50 विश्वविद्यालय के छात्रों के लिए दी नई वीजा पॉलिसी Photo Credit- REUTERS

Britain High Potential Visa: ब्रिटेन में ‘हाई पोटेंशियल इंडिविजुअल’ (HPI) वीजा की शुरुआत हो गई है। इस सुविधा के शुरू होने के बाद से अब भारत सहित 50 शीर्ष विदेशी विश्वविद्यालयों के छात्र भी इसके लिए अप्लाई कर सकेंगे। ब्रिटेन और भारत के मंत्रियों के साथ बैठक में एक नई उम्मीद दिखाई दी है, आने वाले समय में दुनिया भर के बेहतरीन और प्रतिभाशाली स्नातकों को उनके करियर के लिए आकर्षित करेगा।

एक प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक राजकोष के चांसलर ऋषि सुनक (Rishi Sunak) ने मीडिया से बातचीत में बताया, ‘हम चाहते हैं कि कल के व्यवसाय आज यहां निर्मित हों यही वजह है कि मैं छात्रों से उनका करियर बनाने के लिए इस अवसर का लाभ उठाने का आव्हान करता हूं।’

जानिए कैसे प्राप्त करें ये वीजा?: यह योजना हार्वर्ड, ड्यूक या कॉर्नेल जैसे 50 गैर-यूनाइडेट किंगडम विश्वविद्यालयों के स्नातकों के लिए लागू है। सरकारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया, ‘नए उच्च संभावित व्यक्तिगत मार्ग का उद्देश्य अपना करियर प्रारंभ करने वाले उन लोगों को आकर्षित करना है जो असाधारण प्रदर्शन करने की क्षमता रखते हों, मोबाइल टैलेंट के लिए यूके की कंपनियां ऐसे ही लोगों की डिमांड कर रही हैं।’ दो साल का वर्किंग वीजा लेने के लिए आवेदकों को दो साल का वर्किंग वीजा प्राप्त करने के लिए आवेदकों को टॉप यूनिवर्सिटीज से स्नातक या मास्टर डिग्री होनी चाहिए। वहीं पीएचडी पूरा कर चुके लोग तीन साल का वर्किंग वीजा अप्लाई कर सकते हैं। इसके अलावा स्किल्ड लेबर भी जॉब के लिए लंबी अवधि का वीजा अप्लाई कर सकते हैं।

CEFR स्केल पर बी1 स्तर तक अंग्रेजी की हो समझ: वीजा आवेदकों को आवेदन करने के लिए जॉब ऑफर की जरूरत भी नहीं है। हालांकि, उन्हें कॉमन यूरोपियन फ्रेमवर्क ऑफ रेफरेंस फॉर लैंग्वेजेज (सीईएफआर) स्केल पर कम से कम स्तर बी1 तक अंग्रेजी बोलने और समझने की अपनी क्षमता साबित करनी होगी। ब्रिटेन सरकार ने कहा, ‘वीजा फॉर्म इमीग्रेशन सिस्टम को बदलने की सीरीज का एक हिस्सा है जो यूके के लोगों को उनके द्वारा दिए जाने वाले योगदान और स्किल के आधार पर उनका स्वागत करे न कि जहां से वो आते हैं उसके लिए।’

जानिए कितनी होगी वीजा की फीस?: सरकारी वेबसाइट के अनुसार, वीजा के लिए आवेदन शुल्क 715 डॉलर है और आवेदकों को प्रति वर्ष लगभग 624 डॉलर का ‘स्वास्थ्य सेवा सरचार्ज’ भी देना होगा।

किन विश्वविद्यालयों के स्नातक कर सकते हैं आवेदन?: यूके सरकार द्वारा स्पेसीफाइड किए गए 50 विश्वविद्यालयों के पूल से ग्रेजुएट एचपीआई वीजा के लिए पात्र हैं। इनमें हार्वर्ड, येल, न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी या नॉर्थवेस्टर्न जैसे अमेरिका के 20 विश्वविद्यालय शामिल हैं। जापान के क्योटो विश्वविद्यालय, हांगकांग विश्वविद्यालय और चीन के पेकिंग और सिंघुआ विश्वविद्यालय भी सूची में शामिल हैं।

यूके में व्यापार विस्तार को सरल बनाने के लिए एक बोली: यूरोपीय संघ से बाहर निकलने के बाद यूके में व्यवसायों के विस्तार को सरल बनाने के लिए यूके में कई बदलावों के बीच एचपीआई वीजा आता है। अपनी अंक-आधारित इमिग्रेशन पॉलिसी के तहत,जहां यूके में वर्क वीजा के लिए आवेदन करने वालों को कुछ मानदंडों को पूरा करने पर अंक दिए जाते हैं, यूके ने जुलाई 2021 में एक ‘ग्रेजुएट रूट’ वीजा पेश किया था। इस स्कीम का लाभ इंटरनेशल स्टूडेंट्स जिन्होंने ग्रेजुएशन किया है वो ले सकते हैं। ये छात्र ब्रिटेन के विश्वविद्यालयों से देश में रहने और काम करने या कम से कम दो साल तक काम की तलाश करने के लिए इसका लाभ ले सकते हैं। एचपीआई वीजा की तरह आवेदकों को इस वीजा के लिए आवेदन करने के लिए नौकरी की पेशकश की आवश्यकता नहीं है।

वीजा नीतियों को सरल बनाने के लिए ग्लोबल बिजनेस मोबिलिटी रूट: ब्रिटेन की गृह सचिव प्रीति पटेल ने बताया, ‘यूके का लक्ष्य हमारे देश और व्यवसायों को हाई स्किल्ड और टैलेंट की जरूरत है। वीजा नीतियों में इस तरह के बदलाव के साथ यह सुनिश्चित करेगा कि यूके व्यापार के लिए खुला है और नवाचार के मामले में सबसे आगे बना रहेगा। पटेल ने आगे बताया, हमने व्यवसायों को विस्तारित करने के लिए कई रूटों को सरल और बेहतर बनाने के लिए 11 अप्रैल को ग्लोबल बिजनेस मोबिलिटी रूट खोला। ग्लोबल बिजनेस मोबिलिटी रूट से विदेशी व्यवसायों को यूके में दुकान स्थापित करने और अपने कर्मचारियों के ट्रांसफर की इजाजत देता है।

पढें अंतरराष्ट्रीय (International News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X