अमेरिका: स्कूल से निकाले गए लड़के ने बिछा दीं 17 लाशें, दर्जनभर से ज्यादा घायल - Ex-student kills 17 at Douglas High School in US, arrested - Jansatta
ताज़ा खबर
 

अमेरिका: स्कूल से निकाले गए लड़के ने बिछा दीं 17 लाशें, दर्जनभर से ज्यादा घायल

एबीसी न्यूज ने अधिकारियों के हवाले से बताया कि इस हमले में 17 लोग मारे गए हैं। वहीं सीएनएन ने मरने वालों की संख्या 16 बताई है। जबकि न्यूज एजेंसी एएनआई ने घायलों की संख्या बीस ज्यादा बताई है।

अमेरिका के फ्लॉरिडा प्रांत में एक स्कूल में हुई गोलीबारी में कम से कम 17 लोगों की मौत हो गई है। (फोटो सोर्स वीडियो स्क्रीन शॉट)

अमेरिका के फ्लोरिडा प्रांत में अनुशासनात्मक समस्याओं के चलते मैरजोरी स्टोनमैन डगलस हाई स्कूल से निष्कासित छात्र ने स्कूल में अंधाधुंध फायरिंग कर दी। बुधवार (14 फरवरी, 2018) की इस घटना में 17 लोगों की मौत हो गई है जबकि एक दर्जन से ज्यादा लोग बुरी तरह घायल बताए जाते हैं। हमलावर को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी की पहचान निकोलस क्रूज (19) के रूप में की गई है। एफपी की रिपोर्ट के अनुसार गोलीबारी के समय छात्र बुरी तरह डरकर चीखने लगे। उन्होंने मदद के लिए अपने दोस्तों और परिवार के लोगों के संदेश भेजने शुरू कर दिए।

रिपोर्ट के अनुसार आरोपी ने हमले के लिए एआर-15 स्टाइल की बंदूक पिछले साल खरीदी थी। ये जानकारी हमले की जांच कर रहे एक अधिकारी ने दी है। अधिकारी ने कहा कि आरोपी के खिलाफ हथियार खरीदने के लिए उसकी पृष्ठभूमि की भी जांच की जा रही है। घटनास्थल पर मौजूद एक स्कूल टीचर ने बताया कि आरोपी साल 2016 में उन्हीं की कक्षा का छात्र था। उसको कभी किसी बात की परेशानी नहीं थी। वह हमेशा कक्षा में शांत रहता था। घटना के बाद टीचर का कहना है कि वो आश्चर्यचकित है कि निकोलस क्रूज जैसा शांत छात्र ऐसा कर सकता है।

एक अन्य छात्र ने बताया कि आरोपी ने गोलीबारी से पहले स्कूल का फायर अलार्म बजाया जिससे सभी छात्र अपनी क्लास से बाहर आ गए। तब एक छात्र ने बताया कि उसे लगा कि ये पॉप म्यूजिक की आवाज है। हालांकि बाद में यह बेहद भयानक हो गई। लोग चिल्ला रहे थे। लोग जान बचाने के लिए यहां वहां भाग रहे थे। छात्र ने बताया कि करीब एक घंटे तक वह और उसके साथ क्लास में भी रहे। बाद में पुलिस की मदद मिलने पर छात्र स्कूल से बाहर आए।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी ट्वीट कर अपनी संवेदना जताई है। उन्होंने लिखा, ‘मेरी प्रार्थनाएं और संवेदनाएं फ्लोरिडा में हुई गोलीबारी में पीड़ितों के साथ हैं। अमेरिकी स्कूल में बच्चे, शिक्षक और किसी को भी असुरक्षित महसूस नहीं करना चाहिए।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App