ताज़ा खबर
 

एलन मस्क के इलेक्ट्रिक कारों के ट्वीट पर आनंद महिंद्रा ने ली चुटकी कहा, क्या तुम पूरा का पूरा मार्केट महिंद्रा के लिए छोड़ सकते हो?

सरकार की योजना का उद्देश्य देश को वायु प्रदूषण के खतरनाक स्तरों से दूर करना है जिससे हर साल 12 लाख लोगों की मौत हो सकती है।

भारत पर पेरिस जलवायु समझौते के संबंध में डोनाल्ड ट्रम्प के टिप्पणियों के बाद प्रधानमंत्री मोदी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार की 2030 तक इलेक्ट्रिक कारों को सड़कों पर चलाने की महत्वाकांक्षी योजनाएं सामने आई हैं। भारत सरकार की सभी बिजली योजना के जवाब में टेस्ला के सीईओ एलन मस्क ने ट्वीट किया, भारत 2030 तक केवल इलेक्ट्रिक कारों को बेचने के लिए प्रतिबद्ध है। यह पहले से ही सोलर पावर के लिए बहुत बड़ा मार्केट है। एलन मस्क की इलेक्ट्रिक कारों में बहुत रुचि है। सरकार की योजना का उद्देश्य देश को वायु प्रदूषण के खतरनाक स्तरों से दूर करना है जिससे हर साल 12 लाख लोगों की मौत हो सकती है। एलन मस्क इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली दुनिया की सबसे सफल कंपनी टेस्ला के सीईओ हैं।

एलन मस्क के इस ट्वीट को 1 जून को किया था। इसपर 24 घंटे में ही 18 हजार से ज्यादा लोग रिट्वीट कर चुके हैं, वहीं 42 हजार से ज्यादा लोग इसे लाइक कर चुके हैं। एलन मस्क के ट्वीट पर आनंद महिंद्रा ने चुटकी लेते हुए रिट्वीट किया कि तुम आने वाले वक्त में पूरा मार्केट तो हमारे लिए छोड़ नहीं सकते, क्या छोड़ सकते हो? हम भी अच्छे इलेक्ट्रिक व्हीकल बनाते हैं। आनंद महिंद्रा के इस ट्वीट पर एलन मस्क ने स्माइली बनाते हुए लिखा कि गुड पॉइंट। अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 2015 में हुए पेरिस जलवायु समझौते से बाहर निकलने की घोषणा कर दी है। ट्रंप ने कहा कि नागरिकों के प्रति मेरे कर्तव्य के तहत, यूएस पेरिस क्लाइमेट कंट्रोल समझौते से बाहर जा रहा है। अच्छा विवेक एक ऐसे सौदे का समर्थन नहीं करता जो अमेरिका को सजा देता हो।

अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने पेरिस जलवायु समझौते से यह कहते हुए हाथ खींच लिए हैं कि इस समझौते में भारत और चीन को लेकर कोई सख्‍ती नहीं दिखाई गई है। अपने बयान में ट्रंप ने चीन और भारत जैसे देशों को पेरिस समझौते से सबसे ज्यादा फायदा होने की दलील दी है। एलन मस्क ने ट्वीट किया कि में प्रेसिडेंसियल काउंसिल को छोड़ रहा हूं। पेरिस जलवायु समझौते को छोड़ना अमेरिका के लिए ठीक नहीं है। चीन के बारे में एलन मस्क ने कहा कि 2030 तक चीन ज्यादा से ज्यादा क्लीन इलेक्ट्रिसिटी बनाने के लिए प्रतिबद्ध था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App