ताज़ा खबर
 

डोनाल्ड ट्रम्प के निशाने पर छह मुस्लिम देश, अमेरिकी राष्ट्रपति ने नए यात्रा प्रतिबंधोंं पर किए हस्ताक्षर

नये आदेश में इराक का नाम शामिल नहीं है।

Author वॉशिंगटन | Updated: March 7, 2017 11:12 AM
Trump Travel ban, Donald Trump signs, Donald Trump Iraq, Travel ban Iraq, Muslim Travel ban, Donald Trump Muslims banवॉशिंगटन के पेंटागन में ज्यादातर मुस्लिम बहुल देशों से आव्रजकों को लक्षित संशोधित कार्यकारी आदेश पर दस्तखत करते अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप। (REUTERS/Carlos Barria/FILE/27 jan, 2017)

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने छह मुस्लिम बहुल देशों से आने वाले लोगों पर यात्रा प्रतिबंध लगाने वाले नये शासकीय आदेश पर सोमवार (6 मार्च) को हस्ताक्षर किए। नये आदेश में इराक का नाम शामिल नहीं है। गौरतलब है कि ट्रम्प ने राष्ट्रपति पद संभालने के साथ ही इराक समेत सात मुस्लिम बहुल देशोंं पर यात्रा प्रतिबंध लगाते हुए शासकीय आदेश पर हस्ताक्षर किए थे, लेकिन अदालतों ने उसे रोेक दिया। इसे लेकर दुनिया भर के लोगोंं में काफी गुस्सा भी था। व्हाइट हाऊस के प्रेस सचिव सीन स्पाइसर ने पुष्टि की है कि ट्रम्प ने ‘आज सुबह’ बंद कमरे में इस आदेश पर हस्ताक्षर किया। नये शासकीय आदेश मेंं सूडान, सीरिया, ईरान, लीबिया, सोमालिया और यमन के लोगों पर 90 दिनों का प्रतिबंध लगाया गया है। यह पहले से वैध वीजा प्राप्त लोगों पर लागू नहीं होगा।

आदेश के अनुसार, यदि किसी व्यक्ति के पास 27 जनवरी, 2017 (शाम पांच बजे से पहले) वैध वीजा था या शासकीय आदेश के लाूग होने के दिन वैध वीजा था तो उसे अमेरिका में प्रवेश से नहीं रोका जायेगा। उसमेंं कहा गया है, ‘90 दिनों की यह अवधि विदेशी नागरिकों द्वारा आतंकवादियोंं और अपराधियोंं के घुसपैठ को रोकने के लिए मानदंड तय करने और समुचित समीक्षा करने का वक्त देगी।’ नये आदेश में इराक का नाम हटा दिया गया है।

वहीं दूसरी ओर न्यूयॉर्क के अटॉर्नी जनरल का कहना है कि वे ट्रम्प के नये आदेश को अदालत में चुनौती देने के लिए तैयार हैं। एरिक शेनिडरमैन ने कहा, ‘व्हाइट हाऊस ने भले ही प्रतिबंध में बदलाव किए हों, लेकिन मुसलमानों के प्रति भेदभाव की मंशा स्पष्ट है। यह ना सिर्फ ट्रम्प की तानाशाही नीतियों के बीच फंसे परिवारों को नुकसान पहुंचा रहा है बल्कि… यह हमारे मूल्यों के खिलाफ है तथा हमें कम सुरक्षित बनाता है।’ उन्होंने कहा कि देश भर की अदालतों ने स्पष्ट कर दिया है कि ट्रम्प ‘‘संविधान से उच्च्पर नहीं हैं।’’

अमेरिकी अधिकारियों ने पहले ही जताया था अंदेशा

अमेरिकी अधिकारियों ने पहले ही इस बात का अंदेशा जताया था कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का नया आव्रजन आदेश इराक को उन देशों की सूची से हटा देगा, जिनके नागरिक अस्थायी तौर पर अमेरिकी यात्रा प्रतिबंध का सामना कर रहे हैं। अधिकारियों ने यह जानकारी हालिया मसविदे का उल्लेख करते हुए दी थी। चार अधिकारियों का कहना है कि प्रशासन का फैसला पेंटागन और विदेश मंत्रालय की ओर से दबाव के बाद आया है। उन्होंने व्हाइट हाउस से अपील की थी कि वह इस्लामिक स्टेट समूह से लड़ाई में इराक की अहम भूमिका को देखते हुए सूची से इराक का नाम रखने के मुद्दे पर पुन: विचार करे। नया आदेश ट्रंप के पूर्व शासकीय आदेश की जगह ले सकता है। पुराने आदेश पर संघीय अदालतों ने रोक लगा दी थी।

अधिकारियों ने नाम न छापने की शर्त पर यह बात कही थी क्योंकि वे इस आदेश पर हस्ताक्षर से पहले इसकी चर्चा के लिए अधिकृत नहीं थे। इन अधिकारियों ने कहा कि छह देश- ईरान, लीबिया, सोमालिया, सूडान, सीरिया और यमन यात्रा प्रतिबंध सूची में बने रहेंगे। ये प्रतिबंध 90 दिन के लिए प्रभावी हैं। नए आदेश में कुछ अन्य बदलाव भी हैं। अधिकारियों ने कहा कि 12 पृष्ठों का यह दस्तावेज सीरियाई शरणार्थियों के लिए अनिश्चितकालीन प्रतिबंध लगाने की बात का अलग से उल्लेख नहीं करता। यह उन्हें नए शरणार्थी प्रवेशों के 120 दिन तक के निलंबन में ही शामिल रखता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा के खिलाफ चीनी मीडिया की भारत को चेतावनी
2 जापान में हेलीकॉप्टर हादसा, पायलट सहित नौ लोगों की मौत
3 पनामा में बस दुर्घटना, 18 लोगों की मौत
यह पढ़ा क्या?
X