ताज़ा खबर
 

अवैध आव्रजकों को कानूनी दर्जा देने का कोई रास्ता नहीं: ट्रंप

अमेरिका में लगभग 1.1 करोड़ अवैध आव्रजक हैं जिनमें से हजारों भारतीय मूल के हैं।

Author वॉशिंगटन | August 26, 2016 15:12 pm
डोनाल्ड ट्रंप अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के लिए रिपब्लिकन पार्टी के कैंडिडेट हैं। (फाइल फोटो)

अमेरिकी राष्ट्रपति पद के लिए रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार (26 अगस्त) को अवैध आव्रजकों को कोई कानूनी दर्जा प्रदान करने की संभावना से इनकार किया और कहा कि यदि वह व्हाइट हाउस के लिए निर्वाचित होते हैं तो कानून प्रवर्तन एजेंसियों को अपराध करने वाले आव्रजकों को वापस भेजने के लिए अधिकृत करेंगे। अमेरिका में लगभग 1.1 करोड़ अवैध आव्रजक हैं जिनमें से हजारों भारतीय मूल के हैं।

ट्रंप ने सीएनएन से कहा, ‘हम अपने देश में अवैध आव्रजकों की बाढ़ को रोकने जा रहे हैं । कार्यालय में पहले ही दिन मैं कानून प्रवर्तन अधिकारियों को अधिकृत करूंगा कि वे ऐसे सभी बुरे लोगों को बाहर कर दें, जिनमें से बहुत से यहां अवैध रूप से रह रहे हैं, जो गिरोहों और मादक पदार्थ तस्करी से जुड़े समूहों के सरगना हैं।’ उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को कानूनी दर्जा देने का कोई रास्ता नहीं है। ट्रंप ने कहा कि देश के मौजूदा कानूनों का इस्तेमाल करते हुए ओबामा ने बड़ी संख्या में अवैध आव्रजकों को वापस भेजा है।

उन्होंने कहा, ‘आपने बहुत से लोगों को वापस भेजा है। हम इस काम को तेजी से करने जा रहे हैं। हम मौजूदा कानूनों के अनुसार चलने जा रहे हैं, लेकिन हम सीमा को अत्यंत मजबूत बनाने जा रहे हैं और हम नहीं चाहते कि ऐसे लोग वापस आएं।’ रिपब्लिकन उम्मीदवार सभी 1.1 करोड़ अवैध आव्रजकों, यहां तक कि उनको भी जिन्होंने अपराध नहीं किए हैं, को वापस भेजने के मुद्दे पर गैर प्रतिबद्ध दिखाई देते हैं।

उन्होंने कहा, ‘हम देखने जा रहे हैं कि हमारे द्वारा हमारी सीमा को मजबूत किए जाने पर क्या होता है…।’ ट्रंप ने कहा, ‘हम एक वृहतर दीवार बनाने जा रहे हैं । हम एक दीवार बनाने जा रहे हैं जिसके लिए मेक्सिको को भुगतान करना पड़ सकता है , जो बहुत आसान होगा क्योंकि वे हमारे साथ अपने भाग्य का निर्माण कर रहे हैं।’ राष्ट्रपति पद की डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने अवैध आव्रजन पर ट्रंप की टिप्पणियों की तुरंत आलोचना की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App