ताज़ा खबर
 

डोनाल्ड ट्रंप ने पेश किया इजरायल-फलस्तीन शांति प्रस्ताव, फलस्तीन ने कहा, इतिहास के कूड़ेदान में फेंकने लायक

वाइट हाउस में इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के साथ डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उनका यह प्लान सफल हो सकता है, जबकि इससे पहले कई दशकों में तमाम प्लान फेल रहे हैं।

Donald Trumpडोनाल्ड ट्रंप के प्रस्ताव को फलीस्तीन ने किया खारिज (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इजरायल-फलस्तीन ‘शांति प्रस्ताव’ पेश किया है। ट्रंप ने इस प्रस्ताव को दोनों देशों के लिए नई सुबह सुबह जैसा बताया है, लेकिन फलस्तीन ने यह कहते हुए खारिज कर दिया कि इसे इतिहास के कूड़ेदान में फेंका जाना चाहिए। वाइट हाउस में इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के साथ डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उनका यह प्लान सफल हो सकता है, जबकि इससे पहले कई दशकों में तमाम प्लान फेल रहे हैं।

बड़ी संख्या में यहूदी अमेरिकी समुदाय को संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा, ‘हम सब साथ मिलकर मिडिल ईस्ट में नई सुबह लेकर आए हैं।’ हालांकि इस दौरान कोई फलीस्तीन नागरिक या सरकारी प्रतिनिधि मौजूद नहीं था।

फलस्तीन ने यह कहते हुए इस प्लान को खारिज किया है कि इसमें इजरायल का पक्ष लिया गया है और येरूशलम पर उसे एकाधिकार दिया गया है। बता दें कि फलस्तीन भी येरूशलम पर दावा जताता रहा है। प्रस्ताव पेश करते हुए डोनाल्ज ट्रंप ने इजरायल की तारीफ करते हुए कहा कि यह अच्छी बात है कि उसने शांति के लिए एक बड़ा कदम उठाया है।

इस बीच ट्रंप की ओर से प्रस्ताव पेश किए जाने के बाद संयुक्त राष्ट्र के चीफ एंटोनियो गुटेरस ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय संस्था शांति के लिए प्रतिबद्ध है। गुटेरस ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों और अंतरराष्ट्रीय कानूनों के तहत शांति प्रस्ताव पर काम करन के लिए हमारा इजरायल और फलस्तीन को समर्थन है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 परवेज मुशर्रफ सजा मामले में नया पेंच, कोर्ट ने कहा- पूर्व तानाशाह की गैर मौजूदगी में केस चलाना इस्लाम के खिलाफ
2 पाकिस्तान: नाबालिगों ने मंदिर में की तोड़फोड़, पकड़े जाने पर बोले- पैसे चुराने के लिए किया ऐसा
3 CAA के ख‍िलाफ प्रस्‍ताव पर आया EU का बयान, ओम ब‍िरला ने ल‍िखा था कड़ा खत