ताज़ा खबर
 

‘डोनाल्ड ट्रंप को अमेरिका का राष्ट्रपति नहीं बनाया जाना चाहिए’

राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव आठ नवंबर को होने है। ताजा सर्वेक्षण के अनुसार हिलेरी एवं ट्रंप के बीच कड़ा मुकाबला है।

Author वॉशिंगटन | September 26, 2016 5:14 PM
राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप।(REUTERS/Eric Thayer/File)

अमेरिका के दो बड़े प्रभावशाली समाचार पत्रों ने अपने अपने संपादकीय में कहा है कि राष्ट्रपति पद के चुनाव में रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप को अमेरिका का अगला राष्ट्रपति नहीं चुना जाना चाहिए क्योंकि वह इस पद के लिए ‘अनुपयुक्त’ हैं और देशों एवं धर्मों के बारे में ‘बेहद सख्त राय’ रखते हैं। ‘द वॉशिंगटन पोस्ट’ और ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ के संपादकीय बोर्डों ने रविवार (25 सितंबर) को मजबूती से यह बात की कि ट्रंप को देश का राष्ट्रपति नहीं चुना जाना चाहिए। यह संपादकीय ऐसे समय में प्रकाशित हुए है। जब हॉफ्स्ट्रा यूनीवर्सिटी में सोमवार (26 सितंबर) रात पहली ‘प्रेसीडेन्शियल डिबेट’ होनी है।

‘द वॉशिंगटन पोस्ट’ ने कहा, ‘इस बात पर बहस की आवश्यकता नहीं है कि डोनाल्ड ट्रंप राष्ट्रपति बनने के लिए उपयुक्त नहीं हैं। इस बीच ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने अपने संपादकीय में ‘डोनाल्ड ट्रंप को राष्ट्रपति क्यों नहीं बनाया जाना चाहिए’ शीर्षक के तहत अपने तर्क पेश किए। इससे एक दिन पहले ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने अमेरिका के अगले राष्ट्रपति के रूप में डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन का समर्थन किया था। राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव आठ नवंबर को होने है। ताजा सर्वेक्षण के अनुसार हिलेरी एवं ट्रंप के बीच कड़ा मुकाबला है।

‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ के संपादकीय बोर्ड ने लिखा, ‘ट्रंप के व्यक्तित्व से आकर्षित मतदाताओं को थोड़ी देर रुकना चाहिए और एक दु:साहसी नेता के रूप में उनके विशेष आचरण पर ध्यान देना चाहिए। वह धमकी देते है, उन्हें चुनौती देने वालों का घटिया मजाक उड़ाते हैं, महिलाओं के बारे में अपमानजनक टिप्पिणयां करते है, झूठ बोलते है, देशों एवं धर्मों के बारे में बेहद सख्त राय रखते हैं।’ समाचार पत्र में कहा गया है, ‘हमारे राष्ट्रपति हमारे बच्चों की पीढ़ियों के लिए आदर्श होते हैं। क्या हम उनके लिए ऐसा उदाहरण रखना चाहते हैं?’ अमेरिका के लोग राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए पहली ‘प्रेसीडेन्शियल डिबेट’ देखने को तैयार हैं, ऐसे में ‘द वॉशिंगटन पोस्ट’ के संपादकीय बोर्ड ने कहा कि आज के दर्शकों के लिए चुनौती यह है कि वह यह सोचने के जाल से बचें कि उन्हें इस बहस में ‘वास्तविक ट्रंप’ या ‘नए ट्रंप’ को उभरते देखने का एक और मौका मिलेगा।

उसने कहा, ‘इसके लिए अब बहुत देर हो चुकी है। वास्तविक ट्रंप तभी नागरिकों के सामने आ गए थे जब उन्होंने राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनने की घोषणा की थी और अवैध प्रवासियों के रूप में अमेरिका में ‘बलात्कारियों को भेजने’ के लिए मेक्सिको को दोषी ठहराया था। ऐसा कहा जाता है कि एक सामान्य व्यक्ति के चरित्र की असल परीक्षा यह होती है कि वह उस समय कैसा व्यवहार करता है जब कोई उसे नहीं देख रहा होता।’

‘द वॉशिंगटन पोस्ट’ ने लिखा कि राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनने के मानक ये हो सकते हैं कि जब आपको हर कोई देख रहा होता है, उस एक महत्वपूर्ण दिन से पहले आप सार्वजनिक तौर पर बार बार कैसा व्यवहार करते हैं। इस मानक के अनुसार ट्रंप पहले ही अनुत्तीर्ण हो गए हैं। संपादकीय में कहा गया है कि ट्रंप ने ओवल कार्यालय में बैठने में अपनी ‘अयोग्यता’ बार बार दिखाई है। इस बीच ट्रंप की चुनाव प्रचार मुहिम ने हिलेरी का समर्थन करने को लेकर ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ की आलोचना की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App