ताज़ा खबर
 

डोनाल्ड ट्रंप को मिली अमेरिकी राष्ट्रपति पद से जुड़ी पहली खुफिया ब्रीफिंग

पूर्व में ट्रंप द्वारा की गई विवादित भाषणबाजी के कारण उनके विपक्षियों ने अमेरिकी सरकार से अनुरोध किया है कि ट्रंप को यह जानकारी उपलब्ध नहीं कराई जाए।

Author वॉशिंगटन | August 18, 2016 12:29 PM
राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप।(REUTERS/Eric Thayer/File)

अमेरिकी राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप को उनकी पहली गोपनीय खुफिया ब्रीफिंग दी गई। उनका कहना है कि यदि वह नवंबर के आम चुनाव में चुने जाते हैं तो वे शायद इसका ‘इस्तेमाल’ न करें। अमेरिकी नियमों के अनुसार, राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन पार्टियों के उम्मीदवारों को राष्ट्रपति पद की जिम्मेदारी के लिए तैयार करने के लिए राष्ट्रपति पद से जुड़ी गोपनीय जानकारी दी जाती है।

पूर्व में ट्रंप द्वारा की गई विवादित भाषणबाजी के कारण उनके विपक्षियों ने अमेरिकी सरकार से अनुरोध किया है कि ट्रंप को यह जानकारी उपलब्ध नहीं कराई जाए। हालांकि एफबीआई ने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को गोपनीय जानकारी उपलबध करवाने की परंपरा निभाते हुए उन्हें ब्रीफिंग दी। यह ब्रीफिंग एफबीआई के न्यूयॉर्क स्थित कार्यालय में हुई।

ट्रंप के साथ उनके दो विश्वस्त लोग- न्यू जर्सी के गवर्नर क्रिस क्रिस्टी और सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल माइकल फ्लाइन थे। नेशनल इंटेलिजेंस के निदेशक के नेतृत्व में दी गई यह ब्रीफिंग दो घंटे से ज्यादा समय तक चली। इस ब्रीफिंग के बारे में कोई जानकारी तो नहीं दी गई है लेकिन आम तौर पर इनमें अमेरिका पर मंडराने वाले खतरों और सुरक्षा से जुड़े अन्य मुद्दों का जिक्र होता है। यह ब्रीफिंग खुफिया अभियान से संबंधित नहीं होती है।

ब्रीफिंग से पहले, ट्रंप ने कहा कि वह ऐसी खुफिया जानकारी पर ज्यादा निर्भर नहीं करेंगे। उन्होंने फॉक्स न्यूज को दिए साक्षात्कार में कहा, ‘इन्हें इस्तेमाल करना बहुत आसान है लेकिन मैं इनका इस्तेमाल करूंगा नहीं, क्योंकि उनके आधार पर बेहद खराब फैसले लिए गए हैं। यदि हमने इनका इस्तेमाल नहीं किया होता , तो स्थिति कहीं ज्यादा बेहतर होती।’

ट्रंप के प्रचार अभियान की ओर से कहा गया कि खुफिया जानकारी की ब्रीफिंग के लिए रवाना होने से पहले ट्रंप ने कट्टरपंथी इस्लाम से निबटने के मुद्दे पर अपने राष्ट्रीय सुरक्षा दल के साथ वार्ता की। ट्रंप के राष्ट्रीय नीति निर्देशक स्टीफन माइलर ने कहा, ‘आज श्रीमान ट्रंप ने विदेश नीति और राष्ट्रीय सुरक्षा के शीर्ष विशेषज्ञों के साथ कट्टरपंथी इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई जीतने के तरीकों पर चर्चा करने के लिए बैठक की।’

इस बात की जानकारी तत्काल नहीं मिल सकी कि ट्रंप की डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी हिलेरी क्लिंटन को यह ब्रीफिंग कब दी जाएगी। कई रिपब्लिकन नेताओं ने हिलेरी के ईमेल विवाद के कारण उन्हें गोपनीय जानकारी नहीं देने की अपील की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App