ताज़ा खबर
 

अटॉर्नी जनरल पद के लिए ट्रंप के उम्मीदवार ने कहा, H1B VISA पर करेंगे कंट्रोल

सेशंस ने कहा, ‘मेरा मानना है कि एच1वीज़ा का दुरुपयोग हुआ है और मुझे आपके विधेयक और जिन कुछ अन्य के विधेयक मददगार हो सकते हैं।'

Author वॉशिंगटन | January 12, 2017 6:19 PM
चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया जा रहा है। (एक्सप्रेस फाइल)

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ओर से अटॉर्नी जनरल पद के लिए नामित उम्मीदवार ने सांसदों को भारतीय आईटी पेशेवरों द्वारा मुख्य रूप से इस्तेमाल किए जाने वाले एच1बी एवं एल1 कार्य वीजा के दुरुपयोग को रोकने के लिए वैधानिक कदम उठाने का आश्वासन दिया है। सीनेटर जेफ सेशंस ने अमेरिका के अटॉर्नी जनरल पद पर उनकी नियुक्ति की पुष्टि संबंधी सुनवाई के दौरान सीनेट न्यायिक समिति के सदस्यों से कहा, ‘यह सोच गलत है कि हम पूरी तरह खुली दुनिया में रहते हैं और यदि दुनिया में कोई कम वेतन पर नौकरी करने का इच्छुक है तो किसी अमेरिकी की नौकरी लेकर उसे दी जा सकती है।’

सेशंस ने सीनेट न्यायिक समिति के अध्यक्ष सीनेटर चार्ल्स ग्रासले के एक प्रश्न के उत्तर में कहा, ‘हमारे देश की सीमाएं है। हमारी हमारे नागरिकों के लिए प्रतिबद्धता है और आप इसके समर्थक रहे हैं। मैंने इस मामले पर आपके साथ काम करके सम्मानित महसूस किया है।’ सेशंस एवं ग्रेसले दोनों ने पहले भी एच1बी वीजा पर कानून लाने के लिए मिलकर काम किया है। इस कानून से भारतीय आईटी कंपनियों को काफी नुकसान पहुंचा था। यदि अमेरिकी सीनेट सेशंस की नियुक्ति की पुष्टि कर देती है तो वह न्याय विभाग का नेतृत्व करेंगे। अनुचित रोजगार गतिविधियों संबंधी आव्रजन के मामले से जुड़ा आॅफिस फॉर स्पेशल कौंसिल न्याय विभाग के अधीन ही आता है।

यह कार्यालय आव्रजन एवं राष्ट्रीयता कानून के भेदभाव विरोधी प्रावधान लागू करता है। ग्रेसले ने कहा, ‘इस कार्यालय को रोजगार वीजाधारक विदेशी नागरिकों को भेदभाव से बचाने के लिए स्थापित किया गया था लेकिन इसके साथ ही यह सुनिश्चित करना भी इसका कर्तव्य है कि कार्यस्थल में अमेरिकी कर्मियों के साथ भी भेदभाव नहीं हो।’ उन्होंने कहा, ‘कई अमेरिकी कर्मियों का मानना है कि देश के कर्मियों की छंटनी और कम वेतन मे, विदेशी, एच1बी कर्मियों को उनकी जगह रोजगार देना अमेरिका के कर्मियों के साथ असल में राष्ट्रीयता संबंधी भेदभाव के बराबर है।’

उन्होंने कहा, ‘ओबामा प्रशासन यहां अमेरिकी कर्मियों का बचाव करने में असफल रहा। मेरा प्रश्न है कि क्या आप इन वीजा कार्यक्रमों के दुरूपयोग की जांच में अधिक आक्रामक रहेंगे?’ सेशंस ने कहा, ‘मेरा मानना है कि दुरूपयोग हुआ है और मुझे आपके विधेयक और जिन कुछ अन्य के विधेयक मददगार हो सकते हैं, उन्हें समर्थन देकर खुशी होगी। इस समस्या से निपटा जाना चाहिए।’ ग्रेसले ने सेशंस को अमेरिकी कर्मियों का मुखर समर्थक बताया। सेशंस, ग्रेसले और सीनेटर डिक डर्बिन पहले एक विधेयक को सह प्रयोजित कर चुके हैं जो यह सुनिश्चित करके एच1बी वीजा कार्यक्रमों में सुधार करेगा कि योग्य अमेरिकी कर्मियों को उच्च दक्षता वाले रोजगार के अवसरों के लिए विदेशी नागरिकों की तुलना में तवज्जो दी जाए।

बराक ओबामा बोले- ट्रंप का मिजाज व्‍हाइट हाउस में उनके काम नहीं आएगा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X