ताज़ा खबर
 

अमेरिका को अधिकतर मुसलमानों से डरने की जरूरत नहीं: ट्रंप के सहयोगी

डोनाल्ड ट्रंप के सहयोगी ने कहा, 'पाकिस्तान में केवल नौ प्रतिशत मुसलमान आईएसआईएस को समर्थन देते हैं और इस नौ प्रतिशत में 1.6 करोड़ लोग आते हैं।'

Author क्लीवलैंड | July 21, 2016 5:31 PM
रिपब्लिकन पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प और अमेरिकी प्रतिनिधि सभा के पूर्व स्पीकर न्यूट गिंगरिच। (REUTERS/Aaron P. Bernstein)

अमेरिका के राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप के एक करीबी सहयोगी ने गुरुवार (21 जुलाई) को कहा कि अमेरिका को ज्यादातर मुसलमानों से डरने की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि वैश्विक मुस्लिम समुदाय में कट्टरपंथी विचारधारा रखने वाले इस्लामवादियों की संख्या बहुत कम है। ओहियो सिटी में चल रहे रिपब्लिकन नेशनल कन्वेंशन के दौरान रिपब्लिकन प्रतिनिधियों से ट्रंप के विश्वासपात्र न्यूट गिंगरिच ने कहा, ‘हम लोग कट्टरपंथी इस्लामवादियों से लड़ रहे हैं, हम लड़ाई हार रहे हैं और इसे जीतने के लिए हम लोगों को निश्चित तौर पर लड़ने के तरीके में बदलाव करना होगा।’ उन्होंने कहा, ‘हम लोगों को अमेरिका में या पूरे विश्व में बड़ी संख्या में रहने वाले मुसलमानों से डरने की जरूरत नहीं है। बड़ी आबादी शांतिप्रिय है। कई बार वे लोग खुद हिंसा के शिकार हो जाते हैं।’

गिंगरिच ने कहा, ‘वे ऐसे लोग हैं, जिन्हें दोस्त या पड़ोसी बनाकर हमें खुशी होगी। चुनौती यह है कि अरबों की आबादी का बहुत कम प्रतिशत भी 60 करोड़ हो जाता है। ये लोग उनसे असहमत होने वालों के खिलाफ हिंसा का समर्थन करते हैं, यह आंकड़ा भी बहुत बड़ा है।’ उन्होंने कहा कि उदाहरण के तौर पर प्यू रिसर्च में पाया गया कि पाकिस्तान में केवल नौ प्रतिशत मुसलमान आईएसआईएस को समर्थन देते हैं। दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस नौ प्रतिशत में 1.6 करोड़ लोग आते हैं और यह केवल एक देश का आंकड़ा है। प्राइमरी चुनावों के दौरान ट्रंप को समर्थन देने वाले बहुत कम नेताओं में से एक गिंगरिच ने तर्क दिया कि रियल एस्टेट दिग्गज के पास हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण सच्चाइयों के बारे में बात करने का साहस है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App