ताज़ा खबर
 

इस्लामिक रेडियो स्टेशन ने लोगों से की अपील, ‘गैर-मुस्लिम डॉक्टरों से न लें सलाह’

यह मामला सामने तब आया, जब नियामक संस्था ऑफकॉम को 107.6 एफएम से जुड़ी शिकायत मिली थी।

Author Updated: December 21, 2017 2:46 PM
रेडियो स्टेशन पर प्रसारित हुए इस कार्यक्रम को नियामक संस्था ऑफकॉम ने भेदभावपूर्ण और अपमानजनक बताया है। (सांकेतिक फोटोः Freepik)

ईस्ट मिडलैंड्स में एक रेडियो स्टेशन विवादों के घेरे में है। कारण स्टेशन के कार्यक्रम में दी गई अनोखी सलाह है। लोगों से कहा गया कि वे गैर-मुस्लिम डॉक्टरों से सलाह न लें। उनकी बात में वजन नहीं होता है। ऐसे में नियामक संस्था ऑफकॉम ने इसकी कड़ी आलोचना की है। यह मामला सामने तब आया, जब ऑफकॉम को 107.6 एफएम से जुड़ी शिकायत मिली थी। श्रोताओं को उसमें इस्लाम से जुड़े मसलों पर सलाह लेने के लिए प्रोत्साहित किए जाने की बात थी। शो के दौरान मधुमेह को लेकर एक स्कॉलर ने फोन करने वाले (कॉलर) से कहा था, “सलाह देने वाला अगर मुस्लिम नहीं है तो उसकी सलाह में वजन नहीं होगा। चाहे कुछ भी हो, उसका कोई महत्व नहीं होगा।” मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सलाह देने वाला शख्स मुफ्ती है। दरअसल, कॉलर ने उससे पूछा था कि रमजान के दिनों में क्या मधुमेह के मरीज रोजा रखें? जवाब में उस स्कॉलर ने कहा था कि गैर मुस्लिम डॉक्टरों की सलाह पर मधुमेह के मरीज रमजान में रोजा रखना न छोड़ें। स्कॉलर ने आगे कहा था, “देखो, अगर डॉक्टर मुस्लिम है और धार्मिक है, तभी उसकी सलाह में वजन होगा।”

107.6 एफएम करीमिया इंस्टीट्यूट का सामुदायिक रेडियो स्टेशन है और इसे कुछ वॉलंटियर्स मिल कर चलाते हैं। स्टेशन पर यह कार्यक्रम पंजाबी भाषा में प्रसारित किया जाता है। बाद में इसे अनूदित भी किया गया था। ऑफकॉम ने इसे नुकसानदेह, भेदभावपूर्व और अपमानजनक बताया है। जबकि, सामुदायिक रेडियो स्टेशन की ओर से भी तक इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

नियामक संस्था के मुताबिक, रेडियो स्टेशन पर प्रसारित हुए कार्यक्रम ने प्रसारण के दो नियम तोड़े हैं। (सांकेतिक फोटोः Freepik)

ऑफकॉम के अनुसार, स्टेशन ने ऐसा कर प्रसारण के दो नियमों का उल्लंघन किया है। जबकि, नॉटिंघम अहमदिया मुस्लिम समुदाय के सदस्य डॉक्टर इरफान मलिक बोले, “मेडिकल सलाह सिर्फ योग्य मेडिकल प्रैक्टिशनर्स से ली जानी चाहिए। आपको इस तरह से भेदभाव नहीं करना चाहिए। डॉक्टरी में धार्मिक विश्वास नहीं आना चाहिए। चूंकि अंत में मेडिकल सलाह मेडिकल ही होती है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 हाफिज सईद पर पाकिस्तान को अमेरिका ने दी चेतावनी! नजरबंदी से रिहाई पर भी जताई थी चिंता
2 मुझसे कहा- अपने ब्रेस्‍ट पर थूको, दस मॉडल्स ने सुनाई यौन उत्‍पीड़न की खौफनाक आपबीती
3 कैलिफोर्निया में लगी राज्य के इतिहास की दूसरी सबसे भयंकर आग