ताज़ा खबर
 

COVID-19 संकटः US ने की चीन की मदद, पर उसने दिया कोरोना वायरस जैसा बुरा तोहफा- बोले डोनाल्ड ट्रंप

उधर, बीजिंग ने अपनी कोविड-19 आपातकालीन प्रतिक्रिया के स्तर को कम करने का फैसला शुक्रवार को लिया जिसके बाद चीन की राजधानी में हालात सामान्य होने की उम्मीद है।

Iran, USA, US, Donald Trump, Interpolअमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप। (फाइल फोटोः एपी)

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा है कि अमेरिका ने चीन की मदद की। एक साल में हमने उसे 500 बिलियन डॉलर्स दिए थे, पर उसने कोरोना वायरस संक्रमण जैसा तोहफा दिया। यह एक बुरा तोहफा है। ये अच्छी बात नहीं है। उन्हें इसे इसकी जड़ में ही रोक देना चाहिए था।

शुक्रवार को ट्रंप ने अपने संबोधन में बताया- कोरोना वैक्सीन को लेकर हमारी बैठक हुई। हम इस दिशा में कमाल का काम कर रहे हैं। हम जल्द ही सकारात्मक चौंकाने वाले नतीजे दे सकते हैं। वैक्सीन्स पर शानदार काम जारी है।

बकौल ट्रंप, “हम दुनिया के साथ मिलकर काम कर रहे हैं और चीन के साथ भी काम करेंगे। हम सबके साथ काम करेंगे, पर जो कुछ भी हुआ है वो दोबारा नहीं होना चाहिए।”
अमेरिकी राष्ट्रपति के मुताबिक, कोरोना चीन का दिया हुआ ‘तोहफा’ है। यह अच्छा तो नहीं है, पर वे उसे उसकी जड़ में ही रोक सकते थे। यह बहुत बुरा गिफ्ट है। आखिर कैसे यह वुहान (जहां बहुत बुरी स्थिति पनप गई थी) से चीन के बाकी हिस्सों तक नहीं गया?

ट्रंप आगे बोले- चीन ने अमेरिका से बहुत लाभ लिया है। हमने उन्हें फिर से बनने में मदद की है। उन्हें हमारी तरफ से 500 बिलियन डॉलर एक साल में दिए गए। लोग कितने बेवकूफ थे, जिन्होंने हमारे देश का नेतृत्व चीन व बाकी देशों के साथ किया। पर ये सब बदलने वाला है।

बीजिंग कोरोना की पाबंदियों में और ढील दी गई, वुहान में अब एक भी मरीज नहीं: बीजिंग ने अपनी कोविड-19 आपातकालीन प्रतिक्रिया के स्तर को कम करने का फैसला शुक्रवार को लिया जिसके बाद चीन की राजधानी में हालात सामान्य होने की उम्मीद है। इसके साथ ही महामारी के केंद्र रहे वुहान में सभी संक्रमित मरीजों के ठीक होने के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। एक करोड़ लोगों की जांच होने के बाद अब वुहान में संक्रमण का कोई मामला नहीं है। एक स्थानीय अधिकारी ने शनिवार को घोषणा की कि बीजिंग महामारी के प्रति अपनी आपातकालीन प्रतिक्रिया को शनिवार से शुरू करते हुए दूसरे स्तर से तीसरे पर ले आएगा।

बीजिंग के रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र ने 17 मई को कहा था कि मास्क लगाना बहुत जरूरी नहीं है। शुक्रवार को बीजिंग निकाय सरकार ने कहा कि हुबेई प्रांत के लोगों के लिए विमान और ट्रेन के टिकट खरीदने पर पाबंदी को हटा लिया जाएगा। हालांकि उच्च और माध्यम खतरे वाले स्थानों पर पाबंदी जारी रहेगी। बीजिंग निकाय सरकार के उप महासचिव चेन बेई ने यहां संवाददाताओं से कहा कि बीजिंग के रिहायशी स्थानों में अब लोगों का तापमान नहीं मापा जाएगा।

हालांकि, पंजीकरण अभी भी जरूरी होगा। पर्यटन सेक्टर में बीजिंग कुछ नियमों के साथ स्थानीय स्तर पर सामूहिक यात्रा की अनुमति देगा। बाहर से देश के भीतर आने वाले और देश से बाहर जाने वाले पर्यटकों पर पाबंदी जारी रहेगी।

निकाय सरकार के अनुसार सम्मेलन, प्रदर्शनी, खेल और मनोरंजन के आयोजन कुछ प्रतिबंधों के साथ किए जा सकेंगे। स्कूलों में पठन पाठन विधिवत चालू रहेगा और मास्क लगाना अनिवार्य नहीं होगा। प्रांतीय स्वास्थ्य आयोग ने शुक्रवार को कहा कि हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान में बृहस्पतिवार को कोविड-19 के सभी मरीजों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। (पीटीआई-भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना मरीजों के लिए हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन को बताया था जानलेवा, विवाद पर लांसेट ने वापस लिया अध्ययन
2 कोरोना वायरस महामारी से 26.5 करोड़ लोगों पर भुखमरी संकट, वैश्विक गरीबी दर में 22 साल में पहली वृद्धि की आशंका- रिपोर्ट
3 चीन के प्राथमिक विद्यालय में 40 छात्रों, शिक्षकों पर एक सुरक्षाकर्मी ने चाकू से किया हमला