ताज़ा खबर
 

कोरोना से बाल-बाल बची 70 साल के बुजुर्ग की जान, पर अस्पताल ने थमा दिया 8.35 करोड़ रुपए का बिल

मामला अमेरिका के सिएटल का है, जहां 70 साल के बुजुर्ग 62 दिन तक कोरोना से जंग के बाद आखिरकार डिस्चार्ज हुए, लेकिन अस्पताल ने उन्हें 181 पन्नों का लंबा चौड़ा बिल थमा दिया।

Coronavirus, Ventilators, Health Facilitiesअमेरिका में दूसरे देशों से काफी महंगी हैं स्वास्थ्य सेवाएं। (फोटो- AFP)

दुनिया में कोरोनावायरस का केंद्र बन चुके अमेरिका में एक-एक व्यक्ति की जान बचाना काफी मुश्किल साबित हो रहा है। बड़ी संख्या में बुजुर्ग आबादी होने की वजह से अमेरिका का डेथ रेट भी सबसे ज्यादा है। हालांकि, इस बीच सिएटल शहर में एक अस्पताल में डॉक्टरों ने 70 वर्षीय बुजुर्ग को मौत के मुंह से बचा लिया। बताया गया है कि बुजुर्ग 62 दिनों से कोरोना से जंग लड़ रहा था। हालांकि, जब उसे डिस्चार्ज करने की बारी आई, तो अस्पताल प्रशासन ने बुजुर्ग को 11 लाख डॉलर्स यानी करीब 8 करोड़ 35 लाख 52 हजार रुपए का बिल थमा दिया।

बुजुर्ग का नाम माइकल फ्लोर बताया गया है। उन्हें 4 मार्च को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। कोरोना से लगातार बिगड़ती तबियत के बीच एक समय ऐसा भी आया था, जब नर्स ने उनके परिवार को मिलने के लिए बुलाने का सोचा। हालांकि, डॉक्टरों की कोशिश के बाद 62 दिन तक कोरोना से जंग लड़ने के बाद बुजुर्ग ठीक हो गए। आखिरकार 5 मई को उन्हें डिस्चार्ज किया गया। हालांकि, अस्पताल से निकलते वक्त उन्हें 181 पन्नों का बिल थमा दिया गया।

COVID-19 Tracker LIVE Updates

माइकल ने एक स्थानीय अखबार को बताया कि उनसे हर दिन आईसीयू के लिए प्रतिदिन 7.39 लाख रुपए चार्ज किए गए। इसके अलावा उन्हें 42 दिन स्टेराइल रूम में रखने के लिए 4 लाख 9 हजार डॉलर (3 करोड़ 10 लाख रुपए) चार्ज किए गए। इसके अलावा 29 दिन तक वेंटिलेटर पर रखने के लिए 82 हजार डॉलर (62 लाख 28 हजार) और दो दिन जान खतरे में आने के बाद हुए ट्रीटमेंट के लिए 1 लाख डॉलर (करीब 76 लाख रुपए) चार्ज किए गए।

सिएटल टाइम्स अखबार ने बताया कि फ्लोर बुजुर्गों के लिए बनाए गए सरकार के कार्यक्रम के तहत इंश्योरेंस कवर में आते हैं। इसलिए उन्हें इलाज का खर्च अपनी जेब से नहीं देना पड़ेगा। हालांकि, फ्लोर का कहना है कि वे टैक्सपेयर्स का इतना पैसा खर्च होने की बात सुनकर खुद को अपराधबोध से ग्रस्त महसूस कर रहे हैं। बता दें कि अमेरिकी सरकार ने कोरोनावायरस के मद्देनजर अमेरिकी अस्पतालों को 10 करोड़ डॉलर्स की मदद मुहैया कराने का ऐलान किया है। इसके लिए बजट भी पास किया गया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अगर मैं नवंबर में चुनाव हारा तो शांतिपूर्ण तरीके से कार्यालय छोड़ दूंगा: ट्रंप
2 देश की नींव कमजोर करने वाले खुद को कहते हैं राष्ट्रवादी, अमेरिकी एक्सपर्ट से चर्चा में मोदी सरकार पर राहुल गांधी का तंज
3 अमेरिकी जनरल बोले- व्हाइट हाउस के बाहर प्रदर्शन के दिन ट्रम्प के साथ फोटो खिंचाना गलती, सेना के राजनीति में शामिल होने का गया मैसेज
राशिफल
X