ताज़ा खबर
 

कोरोनाः पृथक-वास नियमों को तोड़ना चाहती हूं- बोलीं ब्रिटिश विश्लेषक, ऑस्ट्रेलिया बोला- उन्हें यहां से जाना होगा

ऑस्ट्रेलिया के दो बड़े शहरों सिडनी और मेलबर्न में कोरोना वायरस के डेल्टा स्वरूप के कारण महामारी फैलने की आशंका के मद्देनजर लॉकडाउन लगाया गया है।

नई दिल्ली | Updated: July 19, 2021 1:28 PM
राजनीतिक विश्लेषक केटी हॉपकिन्स (फोटो- PTI)

ब्रिटेन की धुर दक्षिणपंथी राजनीतिक विश्लेषक केटी हॉपकिन्स को ऑस्ट्रेलिया से वापस भेजा जाएगा क्योंकि उन्होंने सोशल मीडिया पर कहा था कि वह देश के पृथक-वास नियमों को तोड़ना चाहती हैं। एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी।

हॉपकिन्स एक रियलिटी टेलीविजन कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए ऑस्ट्रेलिया आयी हैं और शूटिंग शुरू होने से पहले सिडनी में 14 दिन के अनिवार्य पृथक-वास में हैं।होटल के पृथक-वास से कोरोना वायरस संक्रमण नहीं फैले इसलिए ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने प्रत्येक सप्ताह देश आने वाले नागरिकों और स्थायी निवासियों की संख्या आधी कर दी है। करीब 34,000 ऑस्ट्रेलियाई देश आने के इच्छुक हैं लेकिन फिलहाल अन्य स्थानों पर रहने को मजबूर हैं।

ऑस्ट्रेलिया के दो बड़े शहरों सिडनी और मेलबर्न में कोरोना वायरस के डेल्टा स्वरूप के कारण महामारी फैलने की आशंका के मद्देनजर लॉकडाउन लगाया गया है। गृह मंत्री कैरेन एंड्रयूज ने कहा कि हॉपकिन्स ने इंस्टाग्राम पर पृथक-वास का नियम तोड़ने की अपनी मंशा जाहिर की है इसलिए उन्हें देश से वापस भेजा जाएगा।

एंड्रयूज ने ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकांस्टिंग कॉरपोरेशन (एबीसी) को बताया, ‘‘यह हैरानी की बात है कि उन्होंने इस तरह की बात कही। उन्हें यहां से जाना होगा। हम जल्द से जल्द उन्हें देश से भेजने की व्यवस्था करेंगे।’’हॉपकिन्स अपने मुस्लिम विरोधी बयानों को लेकर सुर्खियों में रही हैं और उन्होंने महामारी के दौरान लॉकडाउन को ‘‘मानव इतिहास का सबसे बड़ा छल’’ बताया है।

हॉपकिन्स ‘बिग ब्रदर वीआईपी’ कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आई थीं जिसके निर्माताओं सेवेन नेटवर्क और एंडेमॉल शाइन ऑस्ट्रेलिया ने रविवार को कहा कि उनके अनुबंध को रद्द कर दिया गया है।

Next Stories
1 जितना हम-आप सोचते हैं, उतना भी साफ नहीं होता है बिस्तर, जानें- क्यों?
2 FATF की ग्रे लिस्ट से बाहर आने के लिए PAK ने उठाया ये बड़ा कदम, विपक्षी पार्टियां बोलीं- सरकार अब अपने लोगों पर करेगी अबाध कार्रवाई
3 PAK में कराया जा रहा हिंदुओं-ईसाइयों का जबरन धर्मांतरण- US सांसद का दावा
ये पढ़ा क्या?
X