कोरोना से हुई मौत तो परिजन पहुंचे कोर्ट, सरकार से मांगा 10 करोड़ डॉलर का हर्जाना; जानें क्या है पूरा मामला

इटली में कोरोना से मरने वाले लोगों के रिश्तेदारों ने सरकार से इसका हर्जाना मांगा है। इस मामले में प्रधानमंत्री के खिलाफ भी केस कर दिया गया है।

Italy, coronavirusइटली में कोरोना से मरने वालों के परिजनों ने सरकार से मांगा हरजाना। (फाइल फोटो)

इटली में कोरोना से मरने वालों के रिश्तेदारों ने सरकार से बड़ा मुआवजा मांगा है। लोगों ने नैशनल औऱ रीजनल प्रशासन से 10 करोड़ यूरो (122 मिलियन डॉलर) का हर्जाना मांगा है। इटली के प्रधानमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री रॉबर्टो स्पेरांजा औऱ नॉर्दर्ली लॉम्बार्डी रीजन के गवर्नर पर मुकदमा किया गया है। इस मामले में इन तीनों नेताओं की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है।

पश्चिमी देशों में सबसे पहले इटली पर ही कोरोना का कहर टूटा था। यहां फरवरी में कोरोना ने विकरा रूप ले लिया था और हजारों लोग मारे गए। इटली में अब तक 70 हजार लोगों की कोरोना से जान जा चुकी है।

सरकार पर यह केस करने वाले ग्रुप के प्रेसिडेंट ने कहा, ‘यह केस उन लोगों के लिए क्रिसमस गिफ्ट है जिन लोगों से बहुत कुछ करने की उम्मीद थी लेकिन उन्होंने कुछ नहीं किया।. इटली के प्रशासन की तरफ ज्यादा ध्यान तब गया जब वकील ने वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन के एक अधिकारी से इस बारे में सवाल पूछा था जो जिसने कोरोना और इटली को लेकर एक किताब लिखी थी।’

रिपोर्ट में कहा गया था कि इटली के अस्पतालों को इम्प्रूव किया गया था और दिशा निर्देश जारी होने तक तैयारियां करने में समय लग गया। 13 मई को इसे WHO की वेबसाइट पर डाला गया था लेकिन बाद में हटा लिया गया। WHO ने कहा है कि तथ्यों में कुछ गलती की वजह से इसे हटा लिया गया था। केस करने वाले ग्रुप का कहना है कि अगर इटली के प्रशासन ने तत्काल कार्रवाई की होती तो देशव्यापी लॉकडाउन और इस तरह की त्रासदी और आर्थिक संकट से बचा जा सकता था।

मार्च और अप्रैल में कोरोना वायरस ने इटली में भारी तबाही मचाई थी। इसमें हजारों लोगों की जान चली गई और अंतिम क्रिया के लिए मिलिटरी का सहारा लेना पड़ा था। इसके बाद वहां देशव्यापी लॉकडाउन करना पड़ा। दुनियाभर में कोरोना के अब नए स्ट्रेन की चर्चा है। इटली में बुजुर्गों की संख्या भी काफी ज्यादा है और वायरस ने बुजुर्गों को आसान शिकार बनाया। दरअसल इटली और चीन के बीच लोगों की आवाजाही भी काफी रहती है। जानकारों का कहना है कि चीन से वायरस इटली पहुंचा और इसके बाद यह पूरी दुनिया में फैलने लगा। पश्चिमी देशों के बाद वायरस ने भारत को भी चपेट में ले लिया।

Next Stories
1 वैक्सीन की मंजूरी के लिए सुपर एक्टिव मोड में SII, Covishield के इमरजेंसी अप्रूवल के लिए पेश किए नए डेटा
2 दरियादिलीः बिल आया 76 पैसे का, पर रेस्त्रां स्टाफ पर ग्राहक मेहरबान, नाम बताए बगैर क्रिसमस से पहले दे गया 4 लाख की टिप
3 पीएम मोदी को भाई मानने वाली पाकिस्तानी ऐक्टिविस्ट करीमा बलोच का मिला शव, तारेक फतह बोले- पाक के ‘गंदे हाथ’
आज का राशिफल
X