ताज़ा खबर
 

ओली व प्रचंड में बातचीत के दौरान नहीं बन सकी सहमति, नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी में फूट के आसार

प्रचंड खेमे को वरिष्ठ नेताओं व पूर्व प्रधानमंत्रियों माधव कुमार नेपाल और झालानाथ खनल का समर्थन हासिल है। यह खेमा ओली के इस्तीफे की मांग कर रहा है और उसका कहना है कि ओली की हालिया भारत विरोधी टिप्पणी न तो राजनीतिक रूप से सही थी और न ही राजनयिक रूप से उचित थी।

Author Published on: July 10, 2020 5:57 AM
काठमांडो पोस्ट की खबर के अनुसार ओली और प्रचंड के बीच कई दौर की बातचीत होने के बाद भी कोई सहमति नहीं बन सकी।

नेपाल की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के भीतर पैदा हुए मतभेद समाप्त होते नहीं दिख रहे हैं। गुरुवार को आई मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली और पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ के बीच सप्ताह भर में आधा दर्जन से अधिक बैठकें होने के बाद भी कोई आम सहमति नहीं बन सकी है।

बुधवार को एनसीपी की 45 सदस्यीय स्थायी समिति की महत्त्वपूर्ण बैठक शुक्रवार तक के लिए टाल दी गई। यह लगातार चौथामौकाथाजबपार्टीकीबैठक टाल दी गई थी ताकि पार्टी के दो अध्यक्षों को मतभेदों को दूर करने के लिए पर्याप्त समय मिल सके। उम्मीद की जा रही है कि 68 वर्षीय ओली के राजनीतिक भविष्य के बारे में शुक्रवार को स्थायी समिति की बैठक के दौरान फैसला किया जा सकता है। इस बीच नेपाल में चीनी राजदूत होउ यान्की की सक्रियता बढ़ गई है ताकि ओली की कुर्सी को बचाया जा सके।

प्रचंड खेमे को वरिष्ठ नेताओं व पूर्व प्रधानमंत्रियों माधव कुमार नेपाल और झालानाथ खनल का समर्थन हासिल है। यह खेमा ओली के इस्तीफे की मांग कर रहा है और उसका कहना है कि ओली की हालिया भारत विरोधी टिप्पणी न तो राजनीतिक रूप से सही थी और न ही राजनयिक रूप से उचित थी। नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के दो धड़ों के बीच मतभेद उस समय बढ़ गया जब प्रधानमंत्री ने एकतरफा फैसला करते हुए संसद के बजट सत्र का समय से पहले ही सत्रावसान करने का फैसला किया।

काठमांडो पोस्ट की खबर के अनुसार ओली और प्रचंड के बीच कई दौर की बातचीत होने के बाद भी कोई सहमति नहीं बन सकी। इस बीच विरोध प्रदर्शनों के लिए निर्देश नहीं देने के संबंध में प्रचंड के साथ समझौता होने के बावजूद बुधवार को देश भर में ओली के समर्थन में छिटपुट प्रदर्शन हुए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सियासी संकट के बीच भारतीय न्यूज चैनलों पर नेपाल ने लगाया बैन, दुष्प्रचार का लगाया आरोप
2 चौतरफा घिरे नेपाली PM केपी शर्मा ओली! लगाना चाहते हेल्थ इमरजेंसी, राष्ट्रपति ने कर दिया मना, ताकतवर सेना भी कर रही विरोध
3 पाकिस्तान के इस्लामाबाद में पहले हिंदू मंदिर के निर्माण का रास्ता साफ, अदालत ने निर्माण को चुनौती देने वाली याचिकाएं की खारिज
ये पढ़ा क्या?
X