ताज़ा खबर
 

कोलंबिया सरकार और विद्रोहियों में ऐतिहासिक शांति समझौता, अमेरिकी महाद्वीपों का अंतिम सबसे बड़ा ‘सशस्त्र संघर्ष’

युद्ध की शुरुआत वर्ष 1964 में हुई थी। अमेरिकी महाद्वीपों के इस अंतिम सबसे बड़े सशस्त्र संघर्ष में 2.6 लाख लोग मारे जा चुके हैं और 68 लाख लोग विस्थापित हुए हैं।

Author हवाना | August 25, 2016 10:54 AM
24 अगस्त को क्यूबा में शांति समझौते के दौरान एफएआरसी विद्रोहियों के वार्ताकार (बाएं) और कोलंबिया सरकार के वार्ताकार एक-दूसरे से हाथ मिलाते हुए। (REUTERS/Enrique de la Osa)

कोलंबिया की सरकार और एफएआरसी विद्रोहियों ने घोषणा की है कि लगभग 50 साल से चले आ रहे गृहयुद्ध को समाप्त करने के लिए इन दोनों पक्षों ने एक ऐतिहासिक शांति समझौता कर लिया है। अमेरिकी महाद्वीपों में यह अंतिम सबसे बड़ा सशस्त्र संघर्ष रहा है। क्यूबा में लगभग चार साल की शांति वार्ताओं के बाद दोनों पक्षों ने कहा कि उन्होंने वार्ताएं सफलतापूर्वक पूरी कर ली हैं और एक अंतिम समझौते पर पहुंच गए हैं। उन्होंने बुधवार (24 अगस्त) को हवाना में एक साझा बयान में कहा, ‘कोलंबियाई सरकार और एफएआरसी घोषणा करते हैं कि हम एक अंतिम, पूर्ण एवं निश्चित समझौते तक पहुंच गए हैं। हम संघर्ष के अंत और कोलंबिया में स्थायी एवं चिरकालिक शांति स्थापित करने के कगार पर पहुंच गए हैं।’

कोलंबिया में राष्ट्रपति जुआन मैनुअल सैंटोस ने इस ‘ऐतिहासिक’ खबर की सराहना की। रेवोल्यूशनरी आर्म्ड फोर्सेज ऑफ कोलंबिया (एफएआरसी) के नेता टिमोलियोन ‘टिमोचेंको’ जिमेनेज ने कहा, ‘सौभाग्यवश, हम एक सुरक्षित मोड़ पर पहुंच गए हैं।’ दोनों प्रतिनिधिमंडलों के सूत्रों ने हवाना में एएफपी को बताया कि पिछले कुछ दिनों से, सरकार और एफएआरसी कई अनसुलझे मुद्दों पर चर्चा कर रहे थे और मंगलवार देर रात तक संयुक्त बयान तैयार करने पर काम किया जा रहा था।

युद्ध की शुरुआत वर्ष 1964 में हुई थी। अमेरिकी महाद्वीपों के इस अंतिम सबसे बड़े सशस्त्र संघर्ष में 2.6 लाख लोग मारे जा चुके हैं और 68 लाख लोग विस्थापित हुए हैं। इसके अलावा 45 हजार लोग लापता हैं। इस बार का यह अंतिम शांति समझौता सुनिश्चित दिख रहा है। हालांकि सरकार अब भी एक छोटे विद्रोही समूह नेशनल लिब्रेशन आर्मी से लड़ रही है। इस समूह की ओर से अपहरणों के जरिए शांति वार्ताओं को पटरी से उतारने की कोशिश की जाती रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App