scorecardresearch

LAC विवादः शी जिनपिंग ने किया अरुणाचल प्रदेश की सीमा से लगे तिब्बती शहर का दौरा

शी ऐसे समय पर तिब्बत का दौरा करने पहुंचे जब भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में पिछले साल मई से गतिरोध जारी है।

चीन के कई नेता समय-समय पर तिब्बत जाते हैं, लेकिन चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के प्रमुख शी जिनपिंग हाल के वर्षों में तिब्बत के सीमावर्ती शहर का दौरा करने वाले संभवत: पहले शीर्ष नेता हैं। (फोटो – रायटर्स)

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अरुणाचल प्रदेश के निकट स्थित रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण सीमावर्ती तिब्बती शहर न्यिंगची का दौरा किया। आधिकारिक मीडिया की तरफ से शुक्रवार को यह जानकारी दी गई।

सरकारी समाचार एजेंसी ‘शिन्हुआ’ की खबर के अनुसार, शी (68) बुधवार को ‘न्यिंगची मेनलिंग एयरपोर्ट’ पहुंचे और स्थानीय लोगों तथा विभिन्न जातीय समूहों के अधिकारियों ने गर्मजोशी से उनका स्वागत किया। इसके बाद ब्रह्मपुत्र नदी घाटी में पारिस्थितिक संरक्षण का निरीक्षण करने के लिए वह ‘न्यांग रिवर ब्रिज’ गए, जिसे तिब्बती भाषा में ‘यारलुंग ज़ंगबो’ कहा जाता है।

चीन ने इस साल वर्तमान 14वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान ब्रह्मपुत्र नदी पर एक विशाल बांध बनाने की योजना को मंजूरी दी है, जिसने भारत और बांग्लादेश के तटवर्ती राज्यों में चिंता उत्पन्न हो गई है। न्यिंगची, तिब्बत में एक प्रांत स्तर का शहर है जो अरुणाचल प्रदेश की सीमा से सटा हुआ है। चीन, अरुणाचल प्रदेश को दक्षिण तिब्बत का हिस्सा बताता है, जिस दावे को भारत ने हमेशा दृढ़ता से खारिज किया है। भारत-चीन के बीच 3,488 किलोमीटर की वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर सीमा विवाद है।

शी ऐसे समय पर तिब्बत का दौरा करने पहुंचे जब भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में पिछले साल मई से गतिरोध जारी है। चीन के कई नेता समय-समय पर तिब्बत जाते हैं, लेकिन चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी और शक्तिशाली केंद्रीय सैन्य आयोग (चीनी सेना का समग्र आलाकमान) के प्रमुख शी हाल के वर्षों में तिब्बत के सीमावर्ती शहर का दौरा करने वाले संभवत: पहले शीर्ष नेता हैं।

चीन के सोशल मीडिया पर जारी की एक वीडियो में शी न्यिंगची के लोगों के साथ नजर आ रहे हैं। न्यिंगची को तिब्बत का स्विटजरलैंड कहा जाता है। हांगकांग के ‘साउथ चाइन मॉर्निंग पोस्ट’ समाचार पत्र ने शी के हवाले से कहा, ‘‘ भविष्य में, तिब्बत के सभी जातीय समूह के लोग एक सुखी जीवन जीएंगे, मैं उतना ही आश्वस्त हूं, जितना की आप।’’ शी के 2013 में राष्ट्रपति पद का कार्यभार संभालने के बाद यह उनका पहला तिब्बत दौरा है। वह बतौर उपराष्ट्रपति 2011 में हिमालय क्षेत्र आए थे।

पढें अंतरराष्ट्रीय (International News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट