ताज़ा खबर
 

बिपिन रावत पर भड़का चीनी मीडिया, कहा- बहुत बड़ा मुंह है, आग लगाकर देशों का माहौल बिगाड़ना चाहते हैं

उन्होंने न केवल अंतरराष्ट्रीय नियमों को लेकर आंखों पर पट्टी बांध ली है और वे बार-बार हमें भारतीय सेना के प्रबल होने को लेकर घमंड दिखाते रहते हैं।

Author Updated: September 8, 2017 3:53 PM
भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत। (Photo Source: Indian Express Archive)

चीनी सरकार के बाद अब चीन की मीडिया ने भी भारतीय सेना प्रमुख बिपिन रावत के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। शुक्रवार को हॉकिश कम्यूनिस्ट पार्टी के मीडिया समूह ग्लोबल टाइम्स ने अपने एडिटोरिएय में भारतीय सेना प्रमुख बिपिन रावत पर जमकर हमला बोला जिसमें उन्होंने ‘देश को दो मोर्चो पर लड़ाई के लिए तैयार रहने’ के लिए कहा था। ग्लोबल टाइम्स ने अपने एडिटोरिएल में लिखा बिपिन रावत का बहुत बड़ा मुंह है इसलिए वे आग लगाकर बीजिंग और नई दिल्ली के बीच के माहौल का शत्रुतापूर्ण बनाना चाहते हैं। उन्होंने न केवल अंतरराष्ट्रीय नियमों को लेकर आंखों पर पट्टी बांध ली है और वे बार-बार हमें भारतीय सेना के प्रबल होने को लेकर घमंड दिखाते रहते हैं। रावत इस प्रकार के बयान से केवल टू फ्रंट वॉर की वकालत कर रहे हैं लेकिन भारतीय सेना के पास यह आत्मविश्वास आता कहां से है।

वहीं चीनी सरकार ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि सेना प्रमुख का यह बयान इस सप्ताह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी-जिनपिंग की मुलाकात के दौरान पैदा हुई सहयोग की भावना के खिलाफ है। चीनी सरकार के प्रवक्ता जेंग शुआंग ने कहा, ‘दो दिन पहले राष्ट्रपति शी-जिनपिंग ने प्रधानमंत्री को संकेत दिए थे कि दोनों देश एक दूसरे के लिए खतरा नहीं, बल्कि विकास के विकल्प हैं।’ साथ ही उन्होंने कहा, ‘हम नहीं जानते कि उन्होंने जो बयान दिया है, उसके लिए उन्हें अधिकृत किया गया है या फिर उन्होंने अचानक ये बयान दे दिया या फिर उनका यह बयान भारतीय सरकार का रुख जाहिर करता है।’

बता दें, बुधवार को सेना प्रमुख ने एक प्रोग्राम के दौरान कहा था कि देश को दो मोर्चो पर लड़ाई के लिए तैयार रहना चाहिए क्योंकि चीन ने ‘आंख दिखाना’ शुरु कर दिया है जबकि पाकिस्तान के साथ सुलह की भी कोई गुजाइंश नजर नहीं आती है। सेना प्रमुख ने चेतावनी दी कि उत्तरी सीमा पर यह स्थिति धीरे धीरे एक बड़े संघर्ष का रुप ले सकती है। उन्होंने कहा कि ऐसी संभावना है कि ये संघर्ष एक स्थान और समय तक सीमित रहें या ऐसा भी हो सकता है कि ये पूरे सीमा क्षेत्र में एक पूरे युद्ध का रूप ले लें । और ऐसे में पाकिस्तान इस स्थिति का फायदा उठाने की फिराक में रहेगा।

जनरल बिपिन रावत ने कहा था, ‘हमें तैयार रहना होगा । हमारे संदर्भ में, युद्ध जैसी स्थिति हकीकत के दायरे में है। बाहरी सुरक्षा खतरों का सफलतापूर्वक मुकाबला करने के लिए तीनों सेवाओं में सेना की सर्वोच्चता बनी रहनी चाहिए।’ सेना प्रमुख की टिप्पणी ऐसे समय में आयी है जब एक दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग डोकलाम टकराव को पीछे छोड़ते हुए भारत चीन संबंध पर आगे बढ़ने पर सहमत हुए। जनरल रावत ने कहा था कि भारत चीन के खिलाफ अपनी चौकसी कम करने का जोखिम नहीं ले सकता। जहां तक उत्तर की बात है तो आंख दिखाना शुरू हो गया है। हमें उन स्थितियों के लिए तैयार रहना होगा जो धीरे धीरे संघर्ष में तब्दील हो सकती हैं।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पाकिस्तानी सेना प्रमुख कमर बाजवा ने कहा- कश्मीरियों को देते रहेंगे हर तरह की मदद, डोनाल्ड ट्रंप को भी चेताया
2 BRICS में मिली फटकार का असर: पाकिस्तान के रक्षा मंत्री बोले- घर के दहशतगर्दों पर नहीं कसी नकेल तो होते रहेंगे शर्मिंदा
3 म्यामांर: भारतीय समुदाय से बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी- हम बड़े फैसले लेने से जरा भी नहीं घबराते
ये पढ़ा क्‍या!
X