ताज़ा खबर
 

चीन: वुहान में कोरोनावायरस महामारी की जानकारी उजागर करने वाली सिटीजन रिपोर्टर को पांच साल की जेल

झैंग पहली सिटीजन जर्नलिस्ट नहीं हैं, जिन्हें वुहान में रिपोर्टिंग करने के लिए गिरफ्तार किया गया। उनसे पहले फरवरी में ही तीन अन्य रिपोर्टर भी रातोंरात ही गायब हो गए थे।

चीनी शासन द्वारा कोरोना महामारी के बारे में जानकारी छिपाने की बात अब खुलकर बाहर आ रही है। कई न्यूज एजेंसी और वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि चीन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को महामारी फैलने की जानकारी देने में देरी दिखाई। चीन पर आरोप है कि उसने कोरोना की बातें लीक करने वाले डॉक्टरों और कुछ पत्रकारों को बंद कर दिया था। अब सामने आया है कि चीनी अधिकारियों ने वुहान में कोरोना से फैले बुरे हालात दिखाने वाले एक नागरिक पत्रकार (सिटीजन जर्नलिस्ट) को भी पांच साल की जेल की सजा सुनाई है।

इस सिटीजन जर्नलिस्ट का नाम झैंग झैन बताया गया है। 37 वर्षीय झैंग वकील भी रह चुकी हैं। उन्हें मई में ही रिपोर्टिंग के लिए गिरफ्तार कर लिया गया था और तब से हिरासत में ही रखा गया। अफसरों ने उनके खिलाफ लड़ाई करने और समस्याएं पैदा करने का आरोप लगाया है। गौरतलब है कि चीन में पत्रकारों पर इस तरह के आरोप लगते रहे हैं।

बता दें कि झैंग पहली सिटीजन जर्नलिस्ट नहीं हैं, जिन्हें वुहान में रिपोर्टिंग करने के लिए गिरफ्तार किया गया। उनसे पहले फरवरी में ही तीन अन्य रिपोर्टर भी रातोंरात ही गायब हो गए थे। उनमें से एक ली जेहुआ अप्रैल में सामने आए थे। जेहुआ का कहना था कि वे क्वारैंटाइन में रखे गए थे। बाद में सामने आया था कि दूसरे पत्रकार- चेन किशी को सरकारी निगरानी में रखा गया था, जबकि तीसरे पत्रकार फैंग बिन की जानकारी अभी भी नहीं मिल पाई है।

झैंग ने उठाया था कोरोना प्रभावित परिवारों की प्रताड़ना का मुद्दा: झैंग ने फरवरी में वुहान में चीनी शासन द्वारा कोरोनावायरस से प्रभावित लोगों के साथ हो रहे बर्ताव पर खबरें की थीं। साथ ही उन्होंने कुछ स्वतंत्र पत्रकारों को हिरासत में लिए जाने का मुद्दा भी उठाया था। हालांकि, 14 मई को वे अचानक से वुहान से गायब हो गईं।

एनजीओ चाइनीज ह्यूमन राइट्स डिफेंडर (CHRD) के मुताबिक, एक दिन बाद खबर मिली थी कि झैंग को 640 किमी दूर शंघाई में पुलिस ने हिरासत में रखा है। 19 जून को उन्हें शंघाई में ही आधिकारिक तौर पर गिरफ्तार किया गया और तीन महीने बाद 9 सितंबर को उनके वकील को उनसे पहली बार मुलाकात करने दी गई।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ट्रंप प्रशासन का अफगानिस्तान और इराक में सैनिक कम करने का ऐलान, जो बाइडेन की पार्टी ने किया विरोध
2 गिलगित-बाल्टिस्तान में चुनाव में धांधली को लेकर सड़कों पर उतरे हजारों लोग, पीपीपी और पीएमएल भी विरोध प्रदर्शन में हुए शामिल
3 Facebook से नाराज सरकार, यहां बैन करने की तैयारी; कई देशों में पहले से है FB पर प्रतिबंध
ये पढ़ा क्या?
X