ताज़ा खबर
 

चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म

चीन की एक स्पर्म बैंक ने संभावित स्पर्म दाताओं से कम्युनिस्ट पार्टी के लिए निष्ठावान होने की मांग की है। पेकिंग यूनिवर्सी के थर्ड हॉस्पिटल ने वीचैट वेब पेज पर बुधवार (4 अप्रैल) को एक बयान में कहा कि स्पर्म दाताओं को सामजावादी मातृभूमि से प्यार जरूर करना चाहिए।

(फोटो सोर्स- रॉयटर्स)

चीन की एक स्पर्म बैंक ने संभावित स्पर्म दाताओं से कम्युनिस्ट पार्टी के लिए निष्ठावान होने की मांग की है। पेकिंग यूनिवर्सी के थर्ड हॉस्पिटल ने वीचैट वेब पेज पर बुधवार (4 अप्रैल) को एक बयान में कहा कि स्पर्म दाताओं को सामजावादी मातृभूमि से प्यार जरूर करना चाहिए। पोस्ट में यह वादा भी किया गया कि स्पर्म दान करने के लिए मेडीकल टेस्ट पास करने वाले लोगों को 5,500 युआन यानी करीब 56 हजार 658 रुपये दिए जाएंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शुक्रवार की सुबह अस्पताल की इस अजीब पोस्ट को सोशल मीडिया से हटा लिया गया। पोस्ट में कहा गया था कि सभी उम्मीदवारों को 20 से 45 वर्ष की आयु का होना चाहिए और उन्हें किसी प्रकार की अनुवांशिक या संक्रामक बीमारी नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा उम्मीदवारों से कहा गया कि उन्हें वजन की समस्या, कलर ब्लाइंडनैस और बाल झड़ने की समस्या भी नहीं होनी चाहिए। पोस्ट में कहा गया कि लोगों में ‘अनुकूल राजनीतिक गुण’ होना चाहिए।

पोस्ट में आगे कहा गया कि उम्मीदवारों को कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व का समर्थन करना चाहिए, पार्टी के उद्देश्यों के प्रति निष्ठावान और सभ्य होना चाहिए। उन्हें कानून का पालन करने वाला होना चाहिए और उन्हें किसी तरह की राजनीतिक समस्या में घिरा नहीं होना चाहिए। हालांकि अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि अस्पताल ने स्पर्म दाताओं की वैचारिक निष्ठा को सत्यापित करने के लिए क्या योजना बनाई है। एक डॉक्टर ने साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट को अस्पताल की हेल्पलाइन के जरिये बताया- ”जब तक आप खुद को उपयुक्त समझते हैं तब तक यह ठीक होगा।” चीन की दूसरी स्पर्म बैंकों ने भावी स्मर्म दाताओं से पार्टी के लिए निष्ठावान होने के लिए नहीं पूछा है।

समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक पेकिंग यूनिवर्सिटी के थर्ड हॉस्पिटल ने स्पर्म के लिए यह अभियान बुधवार को लॉन्च किया था, वीचैट से पोस्ट को हटा भी लिया गया, लेकिन अभियान 23 मई तक चलेगा। चीन के नेशनल हेल्थ कमीशन के मुताबिक देश भर में 23 स्पर्म बैंक हैं, लेकिन ज्यादातर में स्पर्म की कमी से जूझ रहे हैं। बता दें कि चीन ने 2015 में एक बच्चे की नीति में बदलाव किया था, और चीनियों को दो बच्चे पैदा करने की इजाजत दे दी थी। इससे वहां दान किए जाने वाले स्पर्म की मांग में बढ़ोतरी दर्ज की गई। स्पर्म बैंक की सेवा लेने के लिए पिता को यह साबित करना होता है कि वह बच्चा पैदा करने में अक्षम है या अनुवांशिक बीमारी से ग्रस्त है। खबरें ये भी है कि स्पर्म को लेकर चलाए जा रहे इस अभियान को लेकर लोगों के बीच मजाक भी बन रहा। चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म वीबो पर लोग इसे लेकर मजाक भरी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App