ताज़ा खबर
 

मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने संबंधी प्रस्ताव पर चीन लगा सकता है रोक

मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी के तौर पर सूचीबद्ध करने के प्रस्ताव पर अपनी तकनीकी रोक को चीन ने अगस्त में तीन महीने के लिए बढ़ा दिया था।

Author बीजिंग | October 30, 2017 7:07 PM
जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर (फाइल फोटो)

चीन ने सोमवार को फिर संकेत दिए हैं कि वह पाकिस्तान में मौजूद जैश ए मोहम्मद के प्रमुख और पठानकोट आतंकी हमले के मास्टरमाइंड मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी के तौर पर सूचीबद्ध करने के अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन के प्रयास को बाधित करेगा। उसने अपने चिरपरिचित रुख को फिर दोहराया है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्यों में इसे लेकर कोई सर्वसम्मति नहीं है। अजहर को वैश्विक आतंकी के तौर पर सूचीबद्ध करने के प्रस्ताव पर अपनी तकनीकी रोक को चीन ने अगस्त में तीन महीने के लिए बढ़ा दिया था। इससे पहले उसने इस वर्ष फरवरी में संयुक्त राष्ट्र में इस आशय के प्रस्ताव पर रोक लगाई थी।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने मीडिया को बताया, ‘‘हमने इस मंच से अपना रुख कई बार स्पष्ट किया है।’’ उन्होंने कहा कि सुरक्षा परिषद के संबद्ध प्रस्तावों में नियम 1267 समिति के आदेश के अनुरूप एकदम स्पष्ट हैं। जब संबद्ध संगठनों और व्यक्तियों को सूचीबद्ध करने की बात आती है तो उसे लेकर भी नियम स्पष्ट हैं।’’ उनसे पूछा गया कि गुरुवार को जब यूएनएससी की 1267 समिति इस मुद्दे को उठाएगी तो क्या चीन अजहर पर प्रतिबंध को फिर से बाधित करेगा। इस पर हुआ ने कहा, ‘‘संबद्ध देश की ओर से सूचीबद्ध करने के आवेदन करने को लेकर यहां असहमति हैं।’’

चीन द्वारा हाल में लगाई गई तकनीकी रोक की अवधि इस गुरुवार को खत्म होने जा रही है। हुआ ने कहा कि चीन ने तकनीकी रोक इसलिए लगाई है ताकि इस मुद्दे पर विचार-विमर्श के लिए और पक्षों को और अधिक समय मिल सके। बीते दो वर्षों में चीन ने भारत, फिर अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रयासों में बुरी तरह से अडंगा लगाया है और कहा है कि इस मुद्दे पर कोई सर्वसम्मति नहीं है। अजहर को बचाने की चीन की निरंतर गतिविधियों पर हुआ ने कहा कि उसके इन कदमों का उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र की समिति के अधिकार और क्षमता को सुनिश्चित करना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App