ताज़ा खबर
 

एनपीटी संधि पर हस्ताक्षर नहीं करने वाले देशों को सदस्य बनाए जाने पर एनएसजी में मतभेद: चीन

चीन ने एनएसजी में शामिल होने की पाकिस्तान की कोशिश का कथित तौर पर समर्थन किया है।

Author बीजिंग | June 12, 2016 6:38 PM
परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में 48 देश हैं।

परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत की सदस्यता के लिए अमेरिका के जोर दिए जाने के वाबजूद चीन ने रविवार (12 जून) को कहा कि समूह के सदस्य देश गैर एनपीटी राष्ट्रों को इसमें शामिल किए जाने के मुद्दे पर बंटे हुए हैं। साथ ही, चीन ने इस बात पर जोर दिया है कि वियना बैठक में भारत और अन्य देशों के समूह में शामिल होने को लेकर कोई विचार विमर्श नहीं हुआ। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता होंग लेई ने पिछले हफ्ते हुई वियना बैठक का जिक्र करते हुए एक बयान में कहा कि परमाणु हथियार अप्रसार (एनपीटी) संधि पर हस्ताक्षर नहीं करने वाले भारत या अन्य देशों को एनएसजी में शामिल किए जाने से जुड़े किसी भी विषय पर चर्चा नहीं हुई।

उन्होंने कहा कि एनएसजी चेयर (अध्यक्ष) अर्जेंटीना के राजदूत राफेल मरीयानो ग्रोसी ने नौ जून को 48 सदस्यीय एनएसजी की अनाधिकारिक बैठक बुलाई थी। उन्होंने बताया कि चेयर ने कहा कि इस बैठक का कोई एजेंडा नहीं था और यह एनएसजी के दायरे पर सभी पक्षों से विचार सुनने के लिए और एक रिपोर्ट तैयार करने के लिए आयोजित की गई थी। रिपोर्ट एनएसजी की सोल में इस महीने 24 जून को होने वाली पूर्ण बैठक में सौंपी जाएगी।

हालांकि, वियना में राजनयिक सूत्रों ने इससे पहले कहा था कि भारत की सदस्यता पर बैठक में चर्चा हुई और वार्ता बेनतीजा रही। चीन ने कहा है कि एनपीटी पर हस्ताक्षर नहीं करने वाले देशों को इस आधार पर एनएसजी में शामिल नहीं किया जाए कि यह अप्रसार को रोकने की कोशिशों की अनदेखी करेगा। भारत को शामिल किए जाने पर एक सहमति बनाने के लिए एनएसजी के अंदर पूर्ण चर्चा की अपील करते हुए होंग ने कहा कि चीन रचनात्मक तरीके से चर्चा में भाग लेगा।

उन्होंने बताया कि चीन ने इस बात का जिक्र किया है कि कुछ गैर एनपीटी देश एनएसजी में शामिल होने की आकांक्षा रखते हैं लेकिन जब गैर एनपीटी देशों को शामिल किए जाने की बात आती है तब चीन का कहना है कि समूह को आमराय बनाने से पहले पूरी चर्चा करनी चाहिए और सहमति के आधार पर फैसला करना चाहिए। होंग ने कहा, ‘एनपीटी अंतरराष्ट्रीय परमाणु अप्रसार व्यवस्था के लिए एक राजनीतिक और कानूनी आधार मुहैया करता है। चीन का रुख सभी गैर एनपीटी देशों पर लागू होता है और किसी एक को निशाना नहीं बनाता है।’

गौरतलब है कि चीन ने एनएसजी में शामिल होने की पाकिस्तान की कोशिश का कथित तौर पर समर्थन किया है। होंग ने भारत को शामिल किए जाने पर वियना बैठक में चीन, न्यूजीलैंड, आयरलैंड, तुर्की, दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रिया द्वारा ऐतराज जताए जाने के बारे में एक सवाल के जवाब में कहा, ‘वास्तविकता यह है कि समूह के अंदर कई देश चीन के रुख को साझा करते हैं।’ होंग ने कहा कि गैर एनपीटी देशों की एनएसजी की सदस्यता पर समूह में कुछ चर्चा हुई लेकिन एनएसजी के सदस्य देश इस मुद्दे पर बंटे हुए हैं।

उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि चीन शीघ्र ही आमराय बनाने के लिए समूह के अंदर आगे चर्चा किए जाने का समर्थन करना जारी रखेगा। अमेरिका भारत की सदस्यता पर जोर दे रहा है। एनएसजी का सदस्य नहीं होने के बावजूद भारत अमेरिका के साथ अपने परमाणु सहयोग समझौते को लेकर 2008 के एक छूट के तहत सदस्य देशों को मिलने वाले लाभ पा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App