चीन ने जारी किया गलवान घाटी हिंसा का वीडियो, बातचीत के बाद गोगरा से पीछे हटने को तैयार दोनों देश

पिछले साल अप्रैल के महीने में पूर्वी लद्दाख के इलाके में भारत और चीन की सेनाएं आमने सामने हो गई थी। जिसके बाद 15 जून को दोनों देश की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प की ख़बरें सामने आई थी।

china, india
भारत और चीन की सेनाओं के बीच हुए हिंसक संघर्ष का वीडियो चीनी टीवी पर भी प्रसारित किया गया है। इस वीडियो में साफ़ देखा जा सकता है चीनी सैनिक किस तरह से नदी की धार में बह रहे हैं। (फोटो – ट्विटर/ @detresfa_)

पिछले साल पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिकों के मध्य हुए हिंसक झड़प के वीडियो चीन की तरफ से जारी किए गए हैं। करीब 48 सेकेंड के इस वीडियो में दोनों देशों की सेनाओं के बीच हो रहे हिंसक संघर्ष को देखा जा सकता है। यह वीडियो तब जारी किया गया है जब दोनों देशों के सेना की ओर से साझा बयान जारी करते हुए कहा गया है कि दोनों पक्षों के बीच सीमा विवाद को लेकर आपसी समझ बढ़ी है। इसके अलावा दोनों देश की सेनाएं गोगरा इलाके से पीछे हटने को तैयार हो गई हैं।

दोनों देश की सेनाओं के बीच हुए हिंसक संघर्ष का वीडियो चीनी टीवी पर भी प्रसारित किया गया है। इस वीडियो में मुख्य रूप से चीनी सेना के मारे गए जवानों के परिवार वालों से बातचीत की गई है। साथ ही इस वीडियो में साफ़ देखा जा सकता है चीनी सैनिक किस तरह से नदी की धार में बह रहे हैं। साथ ही इस वीडियो में चीनी सैनिक पत्थरबाजी और नारेबाजी करते हुए भी दिखाई दे रहे हैं। वीडियो में भारतीय सैनिक चीनी सैनिकों के सामने मुस्तैदी से डटे हुए भी नजर आ रहे हैं।

गौरतलब है कि पिछले साल अप्रैल के महीने में पूर्वी लद्दाख के इलाके में भारत और चीन की सेनाएं आमने सामने हो गई थी। जिसके बाद 15 जून को दोनों देश की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प की ख़बरें सामने आई थी जिसमें 20 भारतीय सैनिकों की मौत हो गई थी। शुरू में चीन ने अपने किसी भी जवान के मौत की खबर से इंकार किया था लेकिन बाद में चीन ने माना था कि इस हिंसक संघर्ष में उसके 4 सैनिकों की मौत हुई। हालांकि कई जानकार कहते हैं चीनी सैनिकों की मौत का आंकड़ा इससे ज्यादा था।

पिछले एक साल से अधिक समय से चल रहे संघर्ष के बीच मंगलवार को दोनों देश के सेना की ओर से साझा बयान जारी किया गया है जिसमें कहा गया है कि दोनों पक्षों के बीच सीमा विवाद को लेकर आपसी समझ बढ़ी है। साथ ही भारत ने कहा कि सीमा विवाद का हल दोनों देशों के संबंधों के लिए महत्वपूर्ण है। इससे पहले 14 जुलाई को दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच हुई बैठक में भी सीमा विवाद को हल करने का मुद्दा उठाया गया था।

इसी बीच न्यूज एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि दोनों देश के बीच हुए कोर कमांडर लेवल के 12 वें दौर की बैठक के बाद दोनों देश की सेनाएं गोगरा से पीछे हटने के लिए राजी हो गई हैं। हालांकि अभी भी कुछ और हिस्सों पर विवाद बना हुआ है. हॉट स्प्रिंग और देपसांग इलाकों में जारी गतिरोध को समाप्त करने के लिए दोनों देश के कोर कमांडर लेवल की बैठक जारी रहेगी।

पढें अंतरराष्ट्रीय समाचार (International News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट