ताज़ा खबर
 

एप्‍पल और अमेजन के सर्वर में चीन ने लगाई सेंध! डेटा हासिल करने के लिए लगा दी माइक्रोचिप

रिपोर्ट के अनुसार इसकी जानकारी अमेजन ने अमेरिकी सुरक्षा अधिकारियों दे दी थी क्योंकि एलीमेंटल के सर्वर्स रक्षा विभाग के डेटा केंद्र, अमेरिकी सुरक्षा एजेंसी सीआईए के ड्रोन ऑपरेशन और नौसेना के युद्धपोतों के ऑनबोर्ड नेटवर्क में इस्तेमाल किए जाते हैं।

pixabaya तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (Image Source: pixabay)

एप्पल और अमेजन जैसी 30 अमेरिकी कंपनियों के सर्वर्स में चीनी जासूसों के द्वारा सेंध लगाने की खबर से सनसनी मची है। ब्लूबर्ग बिजनेसवीक की एक रिपोर्ट के अनुसार सर्वर्स में माइक्रोचिप्स तब लगाई गईं जब चीन में उन्हें तैयार किया जा रहा था। रिपोर्ट के मुताबिक पेंसिल की नोक के बराबर की माइक्रोचिप मदरबोर्ड और सर्वर्स में लगाई गईं। माइक्रोचिप्स को इस तरह डिजाइन किया गया कि बिना किसी खास उपकरण की मदद से उन्हें पकड़ा न जा सके। रिपोर्ट के मुताबिक चिप्स के जरिये हैकर्स सर्वर्स में कुछ भी करने की पूरी आजादी रखते हैं। हैकर्स चाहें तो डेटा चुरा सकते हैं और दूसरे सर्वर्स से संपर्क स्थापित कर ऑपरेशंस को प्रभावित कर सकते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक अमेजन के सर्वर्स की जांच में मदरबोर्ड पर चीनी चिप पाई गई। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि अमेजन ने 2015 में अपनी वीडियो सेवा को बेहतर बनाने के लिए एलीमेंटल टेक्नोलॉजी नाम से एक स्टार्टअप शुरू किया था, जिसे अब अमेजन प्राइम वीडियो के नाम से जाना जाता है। इसकी सिक्यॉरिटी जांच के लिए अमेजन वेब सर्विसेज (एडब्ल्यूएस) ने एक थर्ड पार्टी कंपनी से करार किया था।

परेशानी आने पर एलीमेंटल के मुख्य उत्पाद यानी महंगे सर्वर्स पर नजर रखी गई। एलीमेंटल के लिए ये सर्वर्स मदरबोर्ड सप्लाई करने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक सैन जोस आधारित सुपर माइक्रो कंप्यूटर (सुपरमाइक्रो) ने बनाए थे। 2015 में एलीमेंटल ने कुछ सर्वर्स की सुरक्षा जांच करवाई थी। जांच में सर्वर्स के मदरबोर्ड पर चावल के दाने के बराबर माइक्रोचिप पाई गई थी, जोकि बोर्ड की डिजाइन का हिस्सा नहीं थी। रिपोर्ट के अनुसार इसकी जानकारी अमेजन ने अमेरिकी सुरक्षा अधिकारियों दे दी थी क्योंकि एलीमेंटल के सर्वर्स रक्षा विभाग के डेटा केंद्र, अमेरिकी सुरक्षा एजेंसी सीआईए के ड्रोन ऑपरेशन और नौसेना के युद्धपोतों के ऑनबोर्ड नेटवर्क में इस्तेमाल किए जाते हैं। जांच में पता चला कि चिप की मदद से परिवर्तित मशीनों समेत किसी भी नेटवर्क में पहुंचा जा सकता था।

माइक्रोचिप को चीन में सब कांट्रैक्टर उत्पादकों द्वारा संचालित फैक्ट्री में डाला गया था। अमेजन, एप्पल और सुपरमाइक्रो ने ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट से इनकार किया है। अमेजन वेब सर्विसेज ने कहा है कि इस बारे में पहले से कोई जानकारी नहीं थी। एप्पल ने कहा कि उसके किसी भी सर्वर में नुकसान पहुंचाने वाली कोई चिप नहीं मिली है। सुपरमाइक्रो ने भी कहा है की उसे ऐसी किसी जांच के बारे में जानकारी नहीं है। चीनी सरकार ने भी इस रिपोर्ट से पल्ला झाड़ा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App