ताज़ा खबर
 

चीन में हवाई अड्डे पर भारतीयों संग बदसलूकी, भारत ने चीन से जताया विरोध

भारत सरकार की आपत्ति के बाद चीनी अधिकारियों ने इस घटना से इनकार किया है। एक यात्री ने सुषमा स्वराज को शिकायत भेज कर भारतीय यात्रियों के साथ हुए दुर्व्यवहार की जानकारी दी थी।
Author नई दिल्ली/बेजिंग | August 14, 2017 03:06 am
प्रतीकात्मक तस्वीर

चीन के एक हवाई अड्डे पर भारतीय यात्रियों के साथ बदसलूकी की शिकायत को भारत सरकार ने गंभीरता से लिया है। भारत ने राजनयिक माध्यमों के जरिए चीन से इस घटना पर कड़ी आपत्ति जताई है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निर्देश पर विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने चीनी विदेश मंत्रालय के शंघाई दफ्तर और हवाई अड्डा प्राधिकरण को आपत्ति पत्र भेजा है। भारतीय विदेश मंत्रालय इस घटना के मद्देनजर चीन जाने वाले यात्रियों के लिए सतर्कता की एडवाइजरी (सलाह- परामर्श पत्र) जारी करेगा। भारत सरकार की आपत्ति के बाद चीनी अधिकारियों ने इस घटना से इनकार किया है। एक यात्री ने सुषमा स्वराज को शिकायत भेज कर भारतीय यात्रियों के साथ हुए दुर्व्यवहार की जानकारी दी थी। नॉर्थ अमेरिकन पंजाबी एसोसिएशन नामक एक संस्था के कार्यकारी निदेशक सतनाम सिंह चहल ने इस संबंध में सुषमा स्वराज को पत्र लिखा था। चहल छह अगस्त को चाइना ईस्टर्न एअरलाइंस से नई दिल्ली से अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को जा रहे थे। उन्हें शंघाई के पुदोंग में रुककर इसी एअरलाइंस के सैन फ्रांसिस्को जाने वाले दूसरे विमान में सवार होना था। चहल ने बताया कि जहाज के निकास द्वार पर एअरलाइंस के ग्राउंड बाकी पेज 8 पर स्टाफ भारतीय यात्रियों को अपमानित कर रहे थे।

शिकायती पत्र के अनुसार, एअरलाइंस कर्मचारियों के व्यवहार से ऐसा लग रहा था कि वे दोनों देशों के बीच बढ़ते सीमा विवाद से कुंठित हैं। चहल ने विदेश मंत्री को यह सुझाव भी दिया है कि वह भारतीय यात्रियों को चीन के रास्ते ट्रांजिट यात्रा न करने की एडवाइजरी जारी करें। बताते चलें कि सिक्किम क्षेत्र के डोकलाम में भारत व चीन की सेना आमने-सामने है। चीन ने पिछले महीने जारी एडवाइजरी में भारत में रह रहे अपने नागरिकों को सुरक्षा का खास खयाल रखने को कहा था। डोकलाम विवाद के मद्देनजर संयत रवैया अपना रहे भारत ने अभी तक कोई एडवाइजरी जारी नहीं की है। लेकिन विदेश मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार, जल्द ही चीन जाने वाले यात्रियों के लिए सलाह-परामर्श पत्र जारी किया जाएगा।
इसी बीच, चाइना ईस्टर्न एअरलाइंस ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि संबंधित सामग्री और हवाई अड्डे की सीसीटीवी फुटेज की जांच के बाद पाया गया कि घटना से जुड़ी खबरें तथ्यों के अनुरूप नहीं हैं। एअरलाइन ने बयान में कहा, ‘एअरलाइन के कर्मचारियों ने तो शानदार सेवा दी।’ हालांकि, चहल ने अपने पत्र में दावा किया है कि जब उन्होंने संबंधित एअरलाइन से शिकायत की तो अधिकारी उन पर चिल्लाने लगा।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. Some0ne SomeWhere
    Aug 14, 2017 at 7:33 am
    जिस देश का लीडर अपनी पडोसी देशों के साथ अच्छा सम्बन्ध बनाये नहीं रख सकता उस देश की लोगों को किसी और देश में या उस पडोसी देश में क्या सम्मान मिलेगा?
    (0)(0)
    Reply