ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान के लिए ‘बेहद अडवांस्ड’ युद्धपोत बना रहा चीन!

चीन को इस्लामाबाद का ‘‘सदाबहार मित्र’’ कहा जाता है और वह पाकिस्तान को हथियारों की आपूर्ति करने वाला सबसे बड़ा देश है। दोनों देश संयुक्त रूप से जेएफ-थंडर का निर्माण भी कर रहे हैं।

Imran Khanपाकिस्तानी पीएम इमरान खान (AP photo)

चीन अपने ‘‘सदाबहार’’ मित्र पाकिस्तान के लिए एक ‘‘अति उन्नत’’ युद्धपोत बना रहा है। रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण हिन्द महासागर में ‘‘शक्ति संतुलन’’ सुनिश्चित करने के लिए दोनों देशों के बीच एक बड़ा द्विपक्षीय हथियार समझौता हुआ था और पाकिस्तान ने इस तरह के चार अत्याधुनिक युद्धपोत चीन से खरीदने की घोषणा की थी। मौजूदा पोत इन्हीं में से एक है। चीन के अखबार ”चाइना डेली” ने चाइना स्टेट शिपबिल्डिंग कॉर्पोरेशन (सीएसएससी)को यह कहते हुए उद्धृत किया है कि यह युद्धपोत आधुनिक खोजी एवं हथियार प्रणाली से लैस होगा। यह पोत रोधी, पनडुब्बी रोधी और वायु रक्षा अभियान में दक्ष होगा। यह निर्माणाधीन पोत चीनी नौसेना के अत्याधुनिक गाइडेड मिसाइल फ्रिगेट का संस्करण है। सीएसएससी ने हालांकि पोत के प्रकार के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं दी। इस पोत का निर्माण शंघाई स्थित हुदोंग-झोंगहुआ पोत कारखाने में हो रहा है।

चीन को इस्लामाबाद का ‘‘सदाबहार मित्र’’ कहा जाता है और वह पाकिस्तान को हथियारों की आपूर्ति करने वाला सबसे बड़ा देश है। दोनों देश संयुक्त रूप से जेएफ-थंडर का निर्माण भी कर रहे हैं। यह एकल इंजन वाला लड़ाकू विमान है। गौरतलब है कि इसके पहले भी खबर थी कि पाकिस्तान जम्मू और कश्मीर बॉर्डर पर अपनी सैन्य क्षमता को विकसित कर रहा है। जिससे वह भारत की तुलना में अपनी लड़ाकू क्षमता को मजबूत बना सके। पाकिस्तान ने हर मुमकिन प्रयासों के चलते भारत पाकिस्तान नियंत्रण रेखा पर दूर तक मात देने वाले टैंक तैनात किये हैं।

बता दें कि पहले भी सूत्रों के हवाले से खबर थी कि पाकिस्तान रूस से टी-90 युद्ध टैंक खरीदने जा रहा है। जिसका मुख्य आधार भारतीय थल सेना है। हालाँकि सूत्रों ने यह भी कहा था कि भारतीय थल सेना ने भी अपनी इंफेंट्री और बख्तरबंद कोर के लिए आधुनिकीकरण की बड़ी योजना बनाई है। जिसमें 60,000 करोड़ का इंफेंट्री कॉम्बैट व्हीकल कार्यक्रम कुछ कारणों से अटका हुआ है। फ़िलहाल भारत के पास टी-90, टी-70 और अर्जुन टैंक शामिल हैं जिन्हें पाकिस्तान को मात देने में सर्वोच्चता हासिल हैं।    (भाषा इनपुट्स के साथ)

Next Stories
1 नए साल के पहले दिन जन्‍मे करीब चार लाख बच्‍चे, सबसे ज्‍यादा भारत में
2 इराक में ‘खतना’ के खिलाफ आवाज उठा रहीं महिलाएं
3 बीमारी की वजह से छोड़नी पड़ी थी पढ़ाई, 16 साल की उम्र में शुरू की थी मैग्‍जीन, अब हैं 400 कंपनियों के मालिक
आज का राशिफल
X